राजधानी दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए आज दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की. अरविंद केजरीवाल ने कोरोना के बढ़ते मामलों के प्रति अपनी चिंता जाहिर करते हुए लोगों को घर से कम से कम निकलने की अपील की है. उन्होंने कहा कि कोरोना की चौथी लहर ज्यादा खतरनाक है. इस लहर में युवा और बच्चे ज्यादा प्रभावित हो रहे हैं. बता दें कि पिछले 24 घंटे में दिल्ली में कोरोने का 13500 नए मामले सामने आए हैं. सोमवार को यह आंकड़ा 11491 था.

Advertisement

एक साल में कोरोना से 299 गैस पीड़ितों की मौत, इनमें से 19 का जिक्र ही नहीं

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा, “इस बार 65 प्रतिशत मरीज 45 साल से कम उम्र के है. मेरी युवाओं से अपील है कि जब भी आप घर से बाहर निकले कोविड-19 गाइडलाइन्स का सख़्ती से पालन करें.”

 

राजधानी में ऑक्सीजन की कमी, 5 की मौत: कोविड अस्पतालों में मची भगदड़

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में कोरोना के फैलने की रफ्तार में काफी तेजी देखी गई है. फिलहाल हम कोरोना के संक्रमण को फैलने से रोकने, अस्पतालों का मैनेजमेंट और वैक्सीनेशन कैसे ज्यादा से ज्यादा लोगों को मिले, हम इस पर ध्यान दे रहे हैं. वहीं बीते दिन दिल्ली में 11491 कोरोना के केस दर्ज किए गए, जबकि 72 लोगों की मौत हुई है. दिल्ली में लगातार बढ़ते कोरोना के केस के बीच सरकार सख्त फैसले उठा रही है, तो वहीं अस्पतालों में व्यवस्थाएं चरमरा गई हैं.

बंगाल के हुगली में मतदान के बीच हिंसा, BJP कैंडिडेट की कार पर हमला

उन्होंने कहा कि कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. मेरे पास उपलब्ध रिपोर्ट के अनुसार, पिछले 24 घंटों में 13,500 मामले सामने आए हैं. ये मामले पिछले साल की तुलना में काफी ज्यादा हैं. नवंबर 2020 में कोरोना के पहले लहर के पीक आवर के दौरान 8500 मामले सामने आए थें.

अमरनाथ यात्रा-2021: श्रद्धालुओं के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन की सुविधा 15 अप्रैल से होगी शुरू, जानें कौन-कौन से डॉक्यूमेंट हैं जरूरी

CBSE की परीक्षाएं हो सकती है रद्द

केजरीवाल ने कहा कि मेरी केंद्र सरकार से अपील है कि सीबीएसई की परीक्षाओं को रद्द किया जाए। बोर्ड परीक्षाएं आयोजित कराने से कोरोना वायरस का संक्रमण व्यापक स्तर पर फैल सकता है, असेसमेंट के वैकल्पिक तरीकों को खोजा जा सकता है। छात्रों को ऑनलाइन परीक्षा या इंटरनल असेसमेंट के आधार पर अगली कक्षाओं में भेजा जा सकता है।

उत्तर प्रदेश: कमरे में फंदे से लटक रही थी बहू, ससुराल वाले बाहर से बना रहे थे वीडियो

अस्पतालों के साथ बैंक्वेट हॉल को किया जाएगा अटैच

केजरीवाल ने कहा कि हम लॉकडाउन नहीं लगाना चाहते, इसके लिए बड़ी प्लानिंग कर रहे हैं और बड़े बैंक्वेट हॉल और होटल को अटैच कर रहे हैं। कम बीमारी वाले मरीजों को बैंक्वेट होल में शिफ्ट करेंगे। किसी को ऑक्सीजन की जरूरत होगी, तो बैंक्वेट हॉल में भी इलाज हो सकता है। बेड की कैपेसिटी बढ़ा कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि सरकार ने कुछ सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों को 100 प्रतिशत कोविड डेडिकेटिड अस्पताल के रूप में घोषित किया है। सभी से सहयोग की अपेक्षा है।

कोरोना के खतरे के बीच नवरात्रि पर्व की शुरुआत, श्रद्धालुओं को सख्ती से पालन करनी होगी कोविड गाइडलाइन

मैं उम्मीद करता हूं कि अस्पताल वाले भी इसमें मदद करेंगे। नॉन कोविड बीमारी और पहले से तय सर्जरी को डिले किया जाए- जैसे घुटना बदलवाना। इमरजेंसी के लिए पूरा इंतजाम है। अगर हमने अस्पतालों को मैनेज कर लिया, तो हम कोविड की इस वेब पर भी अच्छे से काबू पा लेंगे। एक एक मरीज जो अस्पताल में हैं, उन्हें डॉक्टर चेक कर रहे हैं, यदि वे घर में ठीक हो सकते हैं, तो अस्पताल का बेड खाली करें। जब वे घर जाएंगे, तब भी मॉनिटर करेंगे, ऑक्सीमीटर देकर भेजेंगे, तबीयत खराब होने पर फिर अस्पताल में भर्ती करेंगे। अगर उन्हें बेड की जरूरत नहीं है, तो घर में रहकर ही इलाज करवाएं। सभी से अनुरोध है कि डॉक्टर की सलाह के मुताबिक, सहयोग करें। सबकी जान कीमती है, सभी को बचाना है।

ग्वालियर : श्मशान में भी वसूली, 5 सौ की लकड़ी के ले रहे 15 सौ रुपए

केजरीवाल ने कहा कि पिछली बार लोगों ने बढ़-चढ़कर प्लाज्मा डोनेट किया था। अब फिर स्टॉक में प्लाज्मा कम है, रोजाना प्लाज्मा की डिमांड आ रही है। सभी से निवेदन है कि जो कोरोना से ठीक हुए हैं, वे प्लाज्मा डोनेट करें। यही समय है, जब हम स्वार्थ छोड़कर एक दूसरे की मदद करें। दिल्ली वाले हम सब एक परिवार हैं।

 

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply