भोपाल:

मध्य प्रदेश में ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस में बगावत कर दी है, जिसके बाद अब कमलनाथ सरकार पर संकट के बाद मंडरा रहे हैं. सिंधिया जल्द ही बीजेपी में शामिल हो सकते हैं और उनके खेमे में 19 विधायक हैं. इन विधायकों ने राज्यपाल को अपना इस्तीफा भेज दिया है. इस्तीफा देने वाले इन विधायकों में कमलनाथ सरकार के सिंधिया खेमे के छह मंत्री भी शामिल हैं.

पिता माधवराव सिंधिया के नक्शेकदम पर ज्योतिरादित्य, कांग्रेस को अलविदा

अब इसी के मद्देनजर मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन को पत्र लिखा है और मंत्री को तुरंत हटाने की मांग की है. टंडन होली के अवकाश पर लखनऊ गए हुए हैं और प्रदेश के राजनीतिक घटनाक्रम को देखते हुए उनके आज शाम तक भोपाल लौटने की उम्मीद है.

जन संघर्ष के नायक जब्बार भाई

तय कार्यक्रम के अनुसार उन्हें 12 मार्च को भोपाल आना था. कांग्रेस के बागी विधायकों के कदम से प्रदेश में कमलनाथ के नेतृत्व वाली 15 महीने पुरानी कांग्रेस सरकार गिरने के कगार पर पहुंच गई है

Capture

इन विधायकों ने भेजा इस्तीफा
राजभवन के एक अधिकारी ने बताया कि हरदीप सिंह डंग, तुलसी राम सिलावट (मंत्री), राज्यवर्घन सिंह, प्रभुराम चौधरी (मंत्री) , गोविंद सिंह राजपूत (मंत्री), ब्रजेन्द्र सिंह यादव, जसपाल सिंह जग्गी, महेन्द्र सिंह सिसोदिया (मंत्री), सुरेश धाकड़, जसवंत जाटव, संतराम सरोनिया, इमरती देवी (मंत्री), मुन्नालाल गोयल, प्रद्युम्न सिंह तोमर (मंत्री), रणवीर सिंह जाटव, ओपीएस भदौरिया, कमलेश जाटव, गिरीराज दंडौतिया, रधुराज सिंह कंसाना ने अपने त्यागपत्र ई मेल के जरिए भेजे है. इनमें से अधिकांश विधायक बेंगलुरु के एक रिजॉर्ट में ठहरेहुए हैं.

 

अमित शाह और पीएम मोदी से मिले सिंधिया
मध्य प्रदेश में जारी सियासी घटनाक्रम के बीच सिंधिया ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की. इससे पहले सोमवार रात को पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गृह मंत्री एवं भाजपा के वरिष्ठ नेता अमित शाह से मुलाकात की थी. सूत्रों ने बताया कि दोनों नेताओं के बीच यह बैठक करीब दो घंटे चली.

इससे पहले कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया. बीजेपी के शीर्ष नेताओं से मुलाकात के बाद सिंधिया ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को इस्तीफा भेजा. इस्तीफा पत्र पर तिथि नौ मार्च की है. उन्होंने कहा, ‘अपने राज्य और देश के लोगों की सेवा करना मेरा हमेशा से मकसद रहा है. मैं इस पार्टी में रहकर अब यह करने में अक्षम में हूं.’ उन्होंने कहा, ‘‘ यह मेरे लिए आगे बढ़ने का वक्त है. मेरा मानना है कि सबसे अच्छा यह है कि मैं अब एक नयी शुरूआत के साथ आगे बढूं.’’

 

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply