भाजपा को रोकने कमलनाथ ने बनाया अचूक प्लान

    Share this News

    मध्यप्रदेश में राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाकर कांग्रेस हाईकमान सौंप सकता है अन्य दलों से समन्वय की जिम्मेदारी

    केंद्र की भाजपा सरकार के विजय रथ को रोकने के लिए विपक्षी गठबंधन के ताने-बाने में कसावट जल्द ही दिख सकती है। 2024 के लोकसभा चुनाव में महागठबंधन को लेकर कांग्रेस दिलचस्पी दिखाते हुए मध्य प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमल नाथ को हिंदी भाषी राज्यों में साथी दलों के साथ समन्वय का जिम्मा सौंप सकती है। सूत्रों के मुताबिक, उन्हें पार्टी में राष्ट्रीय उपाध्यक्ष का पद दिए जाने की पेशकश भी की गई है। इससे पहले मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री स्व. अर्जुन सिंह भी पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष की जिम्मेदारी निभा चुके हैं।

    बंगाल में टीएमसी की सत्ता बचाने में कामयाब मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भाजपा के खिलाफ महागठबंधन की संभावनाओं को बल दे रही हैं। बीते पखवाड़े उनके दिल्ली प्रवास को इसी से जोड़कर देखा गया था। हालांकि क्षेत्रीय दलों के बीच कांग्रेस को लेकर सहज भाव का आकलन किया जा रहा है। इसके सकारात्मक होने पर ही महागठबंधन की कोशिशें परवान चढ़ेेंगी, जिसकी जिम्मेदारी कमल नाथ को सौंपे जाने की काफी संभावना है। कांग्रेस हाईकमान द्वारा अगले सप्ताह सभी दलों के नेताओं को दिए जा रहे डिनर में इसकी झलक दिखाई दे सकती है।

    सागर में डीजे बजाने को मना करना पड़ा भारी,पड़ोसी ने डंडे से मार मार कर ली जान

    इसलिए कमल नाथ ही

    दरअसल, कमल नाथ के गैर एनडीए दलों के प्रमुख नेताओं से व्यक्तिगत संबंध हैं। शरद पवार, ममता बनर्जी जैसे उन नेताओं से भी उनकी नजदीकी रही है। ये नेता कभी कांग्रेस में थे, लेकिन अब अलग पार्टी स्थापित कर चुके हैं। वरिष्ठता के चलते भी कमल नाथ समन्वय के मामलों में माहिर माने जाते हैं। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद को लेकर असंतुष्ट नेताओं के गुट जी-23 को भी मनाने में कमल नाथ की भूमिका रही है। इसके अलावा उद्योग जगत में भी उनकी अच्छी पकड़ रही है। सूत्र बताते हैं कि कमल नाथ को समन्वय के साथ पंजाब, बंगाल के अलावा कुछ हिंदी भाषी राज्यों का प्रभार दिया जा सकता है।

    ड्राइवर की इन आदतों के चलते कम हो जाता है कार का माइलेज, ऐसे करें मेनटेन

    मध्य प्रदेश में बने रहेंगे कांग्रेस का चेहरा

    केंद्रीय संगठन और संभावित महागठबंधन में समन्वय की जिम्मेदारी के साथ ही कमल नाथ मध्य प्रदेश में भी कांग्रेस का चेहरा बने रहेंगे। साथ ही 2023 के विधानसभा चुनाव में भी पार्टी का नेतृत्व करेंगे। मध्य प्रदेश या केंद्र की राजनीति के सवाल पर वे कई बार स्पष्ट कर चुके हैं कि वे मध्य प्रदेश नहीं छोड़ने वाले हैं। 2018 में प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनी, लेकिन वह 15 महीने ही चल पाई इसलिए वे 2023 में सत्ता वापसी के इरादे से कांग्रेस संगठन को नए सिरे से मजबूत कर रहे हैं। हालांकि ये भी छुपा नहीं है कि कमल नाथ सत्ता गंवाने के लिए कथित रूप से जिम्मेदार ज्योतिरादित्य सिंधिया से सियासी अदावत का हिसाब चुकता करने का इरादा रखते हैं।