Jharkhand Politics: JMM में पड़ी फूट, बागी विधायक बैद्यनाथ राम बोले- अपमान बर्दाश्त नहीं करूंगा…’

Jharkhand Politics: JMM में पड़ी फूट, बागी विधायक बैद्यनाथ राम बोले- अपमान बर्दाश्त नहीं करूंगा…’

Share this News

मंत्री नही बनाए जाने पर बागी हुए झारखंड मुक्ति मोर्चा के विधायक बैद्यनाथ राम

Jharkhand Politics: झारखंड में हेमंत सोरेन के इस्तीफा देने के बाद बनी चंपई सोरेन की सरकार में कैबिनेट विस्तार हो गया है। जिसको लेकर अब हंगामा भी शुरू हो गया है। चंपई सोरेन की सरकार में मंत्री नही बनाए जाने पर झारखंड मुक्ति मोर्चा के विधायक बैद्यनाथ राम बगावत पर उतर आए हैं। उन्होंने नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि उनका नाम पहले लिस्ट में था, लेकिन बाद में काट दिया गया। इसलिए अगला चुनाव वो निर्दलीय लड़ेंगे।

निर्दलीय चुनाव में उतरेंगे JNM विधायक

जेएमएम विधायक ने आरोप लगाया है कि आखिरी समय में शपथ लेने वाले मंत्रियों की लिस्ट से उनका नाम काट दिया गया। एमएलए का कहना है कि वो इस अपमान को कतई बर्दाश्त नहीं करेंगे। अगर जरूरत पड़ी तो अगले विधानसभा चुनाव में वह निर्दलीय चुनाव मैदान में उतरेंगे।

कमलनाथ का भाजपा में जाना तय.?,मोदी और शाह से मिल शाम 5:00 बजे हो सकते हैं शामिल

अपमान को बर्दाश्त नहीं करूंगा- बैद्यनाथ

बता दें कि झारखंड मुक्ति मोर्चा के अध्यक्ष शिबू सोरेन के बेटे बसंत सोरेन और अन्य 7 लोगों ने शुक्रवार मंत्री पद की शपथ ली। वहीं मंत्री पद न मिलने पर विधायक बैद्यनाथ राम ने कहा कि “सबकुछ तय हो गया था और मेरा नाम मंत्रियों की सूची में शामिल था लेकिन, आखिरी वक्त पर मेरा नाम हटा दिया गया, यह अपमान है। मैं इसे बर्दाश्त नहीं करूंगा।”

विधायक बैद्यनाथ राम ने ये भी आरोप लगाया कि कांग्रेस के केंद्रीय नेतृत्व के दबाव में उनका नाम लिस्ट से हटाया गया है। हालांकि इस दौरान बैद्यनाथ ने कहा कि मुख्‍यमंत्री चंपई सोरेन ने उन्हें आश्वासन दिया है कि वह दो दिनों के अंदर इस मामले को सुलझाकर कुछ फैसला लेंगे।

कर्मचारियों और पेंशनर के लिए अंतरिम बजट में चार प्रतिशत डीए और महंगाई राहत का प्रविधान

झारखंड मुक्ति मोर्चा से विधायक हैं बैद्यनाथ

बैद्यनाथ राम लातेहार से झारखंड मुक्ति मोर्चा से विधायक हैं। उन्होंने कहा कि अगर आगे जरूरत महसूस होती है तो एक स्वतंत्र उम्मीदवार के तौर पर विधानसभा चुनाव में लड़ूेंगे। वहीं कांग्रेस में भी विभागों के बंटवारे को लेकर कलह सामने आई है। कांग्रेस विधायकों के एक समूह ने झारखंड प्रदेश प्रमुख राजेश ठाकुर से मुलाकात की और नए मंत्रिमंडल में “पार्टी के कोटे से पुराने मंत्रियों को ही फिर से मंत्री पद मिलने पर अपना विरोध दर्ज कराया।

हमें व्हाट्सएप पर फॉलो करें

CBSE 10th क्लास के सैंपल पेपर जारी,ऐसे करें डाउनलोड Bhopal: आशा कार्यकर्ता से 7000 की रिश्वत लेते हुए बीसीएम गिरफ्तार Vaidik Watch: उज्जैन में लगेगी भारत की पहली वैदिक घड़ी, यहां होगी स्थापित मशहूर रेडियो अनाउंसर अमीन सयानी का आज वास्तव में निधन हो गया है। आज 91 वर्षीय अमीन सयानी का दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया है। इस बात की पुष्टि अनेक पुत्र राजिल सयानी ने की है। अब बोर्ड परीक्षाओं का आयोजन वर्ष में दो बार किया जाएगा।