भोपाल की सड़कों पर काम ना आया देशी जुगाड़,थोड़ी ही बारिश में गड्ढों से बही डामर

भोपाल की सड़कों पर काम ना आया देशी जुगाड़,थोड़ी ही बारिश में गड्ढों से बही डामर

Share this News

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल की सड़कों पर चार चांद लगाते हुए गड्ढों से जब आम जनता को ऐतबार हुआ तो प्रदेश के मुखिया शिवराज ने नाराजगी जाहिर की जिसके बाद नगर निगम, PWD और CPA (राजधानी परियोजना प्रशासन) ने जिन सड़कों पर देशी जुगाड़ किया उसकी भी पोल थोड़ी देर के बारिश में ही खुल गई

भोपाल में कट्टा अड़ाकर दिनदहाड़े लूट,ओला टैक्सी चालक की टैक्सी और मोबाइल लूटकर भागे

आपको बता दें जिन एजेंसियों ने सड़कों पर उतरे गड्ढों को भरने का काम शुरू किया उनके सामने भोपाल में हो रही 2 दिन की बारिश ने मुसीबत खड़ी कर दी है परेशानी का आलम यह रहा कि अभी इन एजेंसियों ने पुराने गड्ढों को भरने का काम खत्म भी नहीं किया इनके द्वारा भरे गए गड्ढे फिर से उभर कर सामने आने लगे जिसके बाद इन एजेंसियों ने ताबड़तोड़ तरीके से देसी जुगाड़ कर कर ही अपना काम शुरू कर दिया लेकिन बारिश उसे भी बहा ले गई

मिली जानकारी के मुताबिक PWD ने सुबह 11.30 बजे से सुभाष नगर चौराहे से हबीबगंज थाने के बीच जर्जर सड़क के पेंचवर्क का काम शुरू किया। करीब 200 मीटर हिस्से के गड्‌ढों में डामर-चूरी डाल दी और ऊपर से पेड़ों की पत्तियां बिछा दी। न तो डामर को रोलर से दबाया गया और न ही आसपास बेरिकेडिंग की गई। ऐसे में गाड़ियां गुजरती गई और पहियों से डामर-चूरी गड्‌ढों से बाहर निकलने लगे। रही कसर बारिश ने कर दी। करीब 15 मिनट हुई तेज बारिश डामर-चूरी बहा ले गई

महिलाओं पर सरेआम बरसाए लठ,जान बचाकर भागती नजर आईं महिलाएं

बर्बाद हो गई मेहनत, लौट गए कर्मचारी

पेंचवर्क कर रहे कर्मचारियों ने बताया कि गड्‌ढों को भरने के लिए इमरसन डामर का इस्तेमाल कर रहे हैं, जो बारिश में भी बेहतर होता है, लेकिन तुरंत बारिश होने से डामर और चूरी दोनों ही बाहर निकल आए। बारिश में मरम्मत का काम नहीं हो सकता। इसलिए अब बुधवार को आएंगे।

CBSE 10th क्लास के सैंपल पेपर जारी,ऐसे करें डाउनलोड Bhopal: आशा कार्यकर्ता से 7000 की रिश्वत लेते हुए बीसीएम गिरफ्तार Vaidik Watch: उज्जैन में लगेगी भारत की पहली वैदिक घड़ी, यहां होगी स्थापित मशहूर रेडियो अनाउंसर अमीन सयानी का आज वास्तव में निधन हो गया है। आज 91 वर्षीय अमीन सयानी का दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया है। इस बात की पुष्टि अनेक पुत्र राजिल सयानी ने की है। अब बोर्ड परीक्षाओं का आयोजन वर्ष में दो बार किया जाएगा।