टोक्यो ओलम्पिक में भारत को मिला पहला पदक, मीराबाई ने 202 किलो वजन उठाकर 21 साल का इंतजार किया खत्म

    Share this News

    मीराबाई चानू के मेडल जीतते ही पूरे देश में खुशी की लहर दौड़ गई है और बधाईयों का दौर शुरू हो गया है। साथ ही देश में ओलंपिक खिलाड़ियों से उम्मीद भी बढ़ गई है। मीराबाई चानू ने अपनी सफलता से पूरे देश का सिर गर्व से ऊंचा कर दिया है।

    भारत 225 रन पर ऑल-आउट मनीष-हार्दिक एक बार फिर फेल,इंडिया के 68 रन बनाने में गिरे 7 विकेट

    मीराबाई चानू की उपलब्धि पर खुशी जाहिर करते हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और पीएम नरेंद्र मोदी ने बधाई दी है। मीराबाई चानू ने टोक्यो ओलंपिक में भारत के लिए पहला सिल्वर मैडल हासिल किया है। मीराबाई चानू को बधाई देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्विट किया है कि ‘मीराबाई चानू के शानदार प्रदर्शन से भारत उत्साहित है। वेटलिफ्टिंग में रजत पदक जीतने के लिए उन्हें बधाई। उनकी सफलता हर भारतीय को प्रेरित करती है’। साथ ही राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भी मीराबाई चानू को बधाई दी है।

    https://twitter.com/i/status/1418838182452359168

    ऐसा रहा मीराबाई चानू का प्रदर्शन

    मीराबाई चानू ने स्नैच में 87 किलोग्राम भार उठाया। क्लीन एंड जर्क में मीराबाई चानू 115 किलोग्राम का भार सफलतापूर्वक उठाया और वह भारत के लिए मेडल जीतने में सफल हुई है। ओलंपिक खेलों के लिए टोक्यो रवाना होने से पहले ही मीराबाई चानू कहा था कि वह भारत के लिए मैडल जरूर जीतकर लाएंगी। मीराबाई चानू ने देश की झोली में पहला सिल्वर मैडल डाल दिया है। मीराबाई चानू के कोच ने भी दावा किया था कि सिल्वर मेडल पक्का है और क्लीन एंड जर्क के आखिरी प्रयास में 117 किलोग्राम का भार उठाने की कोशिश की थी, लेकिन वो सफल नहीं हो पाई और सिल्वर मैडल पर संतोष करना पड़ा।