पंचायत चुनाव

सुप्रीम कोर्ट में OBC आरक्षण पर सुनवाई 17 को,पंचायत चुनाव के लिए सरकार ने
Advertisement
कलेक्टर्स से कहा, सवा महीने में करो परिसीमन

मध्यप्रदेश में पंचायत चुनाव 15 दिन पहले अनिश्चितकालीन समय के लिए डाल दिए थे लेकिन अब राज्य सरकार ने एक बार फिर पंचायत चुनाव कराए जाने की प्रक्रिया तेज कर दी है पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग ने बुधवार को आदेश जारी कर सभी कलेक्टर से सवा महीने के अंदर परिसीमन कर रिपोर्ट देने को कहा है। मतलब परिसीमन का काम 17 जनवरी से शुरू होकर 25 फरवरी को खत्म होगा। परिसीमन 2011 की जनगणना के अनुसार किया जाएगा।

जानिए इस राज्य के मुख्यमंत्री के पिता ने राष्ट्रपति से क्यों लगाई इच्छामृत्यु कि गुहार

ऐसे होगा नया परिसीमन
पंचायतों के नए परिसीमन को लेकर जारी किए गए आदेश में पंचायतों और उनके वार्डों का निर्वाचन क्षेत्र का परिसीमन किया जाना है। इसके तहत परिसीमन की प्रक्रिया में ऐसी पंचायतों को शामिल किया जाना है, जिनका क्षेत्र नगरीय निकाय में शामिल होने से या कोई ग्राम पंचायत या कोई गांव किसी बांध या सिंचाई परियोजना के निर्माण में डूब गया है। साथ ही पिछले परिसीमन में कोई गांव पंचायत में शामिल होने से छूट गया हो (जो नगरीय निकाय या पंचायत के ग्रामीण क्षेत्र में से किसी में भी सम्मिलित नहीं है) या नए बने जिलों के लिए नई जिला पंचायत का गठन हुआ है।

ओबीसी आरक्षण को लेकर मध्यप्रदेश में पंचायत चुनाव टलने के संकेत,अब निर्वाचन आयोग तय करेगा कि चुनाव की प्रक्रिया

वहीं,सुप्रीम कोर्ट ने स्थानीय निकायों के चुनाव में OBC आरक्षण पर रोक लगाई हुई है, जिस पर 17 जनवरी को सुनवाई होना है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पहले ही स्पष्ट कर चुके हैं कि बगैर OBC आरक्षण के पंचायत चुनाव नहीं होंगे। इसलिए अगले सप्ताह सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में होने वाली सुनवाई के बाद पंचायत चुनावों की आगे की रूपरेखा तय हो पाएगी।

हमसे व्हाट्सएप ग्रुप पर जुड़े

खेल की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

रोजगार की खबरें पढ़ने के लिए करें क्लिक

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply