Share this News

सेना प्रमुख बोले, अनिश्चितताओं को दूर करने की जरूरत, सीमा सुरक्षा के लिए IBG तैयार

नई दिल्‍ली, पीटीआइ। थल सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवाने (Army Chief Gen Manoj Mukund Naravane) ने रविवार को राष्‍ट्रीय सुरक्षा को और व्‍यापक बनाने की जोरदार वकालत करते हुए कहा कि भारतीय सशस्त्र बल सुरक्षा प्रहरी के तौर पर देश की प्रतिष्ठा को मजबूती देने के लिए प्रतिबद्ध हैं। हम उचित समय सीमा के भीतर ही पाकिस्‍तान चीन सीमा पर आईबीजी की तैनाती शुरू कर देंगे। उन्‍होंने कहा कि वक्‍त आ गया है कि भूभाग में रणनीतिक अनिश्चितताओं को दूर करने के लिए सरकार के स्‍तर पर व्‍यापक (whole-of-government approach) एप्रोच अपनाई जाए… हालांकि सेना प्रमुख ने यह साफ नहीं किया कि उन्‍होंने यह बात किस पृष्‍ठभूमि में कही है।. https://youtu.be/5Vh_Q5AA63I

पूरे सरकारी तंत्र को साथ आना होगा

नरवाने ने कहा है कि देश के समक्ष उभरती नई चुनौतियों का सामना करने के लिए पूरे सरकारी तंत्र को साथ आना होगा। अब समय आ गया है कि सरकार के सभी मंत्रालय, प्रशासनिक अमला और एजेंसियां महामारी जैसी गैर पारंपरिक चुनौतियों से निपटने के लिए साझा प्रयास करें। देश के राष्ट्रीय सुरक्षा के सिद्धांत को भी व्यापक बनाए जाने की जरूरत है। सेना प्रमुख ने कहा कि देश के अड़ोस-पड़ोस में राजनीतिक अस्थिरता का माहौल बना हुआ है। ऐसे में यह जरूरी है कि होल-ऑफ-गवर्नमेंट एप्रोच अपनाया जाए यानी सरकार के सभी अंग साथ मिलकर इनका सामना करें। 12 मई से 15 रूट पर AC स्पेशल ट्रेनें चलेंगी, जानिए बुकिंग, किराया, गाइडलाइन और सब कुछ..


सशस्त्र सेनाएं प्रतिबद्ध 

सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवाने (Army Chief Gen Manoj Mukund Naravane) ने यह भी कहा कि सशस्त्र सेनाएं भारत की छवि क्षेत्र में एक सुरक्षा प्रदान करने वाले देश के रूप में बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। हालांकि, उन्होंने राजनीतिक अस्थिरता के बारे में विस्तार से कुछ नहीं कहा। लेकिन उनका यह बयान ऐसे समय में आया है जब पाकिस्तान समर्थित तालिबान अफगानिस्तान में सात्त पर कब्जा करने की कोशिशों में जुटा है और चीन श्रीलंका, नेपाल, म्यांमार और मालदीव जैसे देशों के साथ सैन्य संबंधों को विस्तार देने का सतत प्रयास कर रहा है। https://www.instagram.com/p/CAAxEKblBo5/?igshid=ek5rupwbeyxl