नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी छह दिन की अमेरिकी यात्रा पर जा रहे हैं। 21 से 27 सितंबर तक चलने वाली इस यात्रा के दौरान दोनों देशों के बीच व्यापारिक समझौते हो सकते हैं। जिसके चलते भारत में इम्पोर्ट होने वाले आईफोन जैसे उत्पाद सस्ते होने की संभावनाएं हैं। पीएम मोदी रविवार 22 सितंबर को चर्चित कार्यक्रम ‘हाउडी मोदी’ में 50 हजार भारतीय-अमेरिकन को संबोधित करेंगे।

महाराष्ट्र-हरियाणा के विस चुनावों की तारीखों का हो सकता है एलान, दोपहर 12 बजे EC की प्रेस कॉन्फ्रेंस..

सुलझ सकते हैं लंबित व्यापारिक मसले
छह दिन तक चलने वाली इस यात्रा के दौरान पीएम मोदी अमेरिका के ह्यूस्टन, टेक्सास और न्यूयॉर्क शहरों की यात्रा करेंगे। बिजनेस स्टैंडर्ड ने आधिकारिक सूत्रों के हवाले से खबर आई है कि इस दौरान भारत-अमेरिका अपने लंबित व्यापारिक मसलों को सुलझाने के लिए समझौता कर सकते हैं।

चिन्मयानंद ने गुनाह कबूला , बोले-मालिश के लिए छात्रा को कमरे में बुलाया था..

करीब छह बार हो चुकी मुलाकात
करीब एक साल से इस समझौते के पैकेज को अंतिम रूप देने के लिए काम चल रहा है और जिसको लेकर दोनों देशों के व्यापारिक अधिकारियों के बीच करीब छह बार मुलाकात हो चुकी है। भारत से यह उम्मीद की जा रही है कि वह कोरोनेरी स्टेंट कीमत पर लगे अंकुश में कुछ नरमी लाएगा। इसके अलावा अमेरिका से आने वाले कुछ हाई एंड मोबाइल फोन, स्मार्टवॉच, आईफोन जैसे कुछ सूचना और संचार टेक्नोलॉजी से जुड़े उत्पादों के आयात पर टैक्स में कमी की जा सकती है। जिसके चलते भारत में आईफोन की कीमतों में और कमी होने की संभावना है।

रिटायरमेंट की उम्र में करियर शुरू करने वाली ‘शूटर दादी’ पर बन रही है फिल्म, जानें उनके स्ट्रगल की पूरी कहानी

अमेरिका द्वारा भारतीय वस्तुओं पर लगाए जा रहे ‘रेसिप्रोकल टैक्स’ को कम कर सकता है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पहले यह आरोप लगा चुके हैं कि भारत ‘उच्च टैरिफ वाला देश’ है, खासकर हार्ले डेविडसन मोटरसाइकिलों के विषय में उन्होंने यह बात कही थी। भारत पर ऐसा कोई टैक्स लगाने से दोनों देशों के बीच व्यापारिक संबंध खराब हो सकते थे। बता दें कि चीन और अमेरिका के बीच पहले से ही तनातनी चल रही है, ऐसे में अमेरिका अब भारत से भी अपने संबंध खराब करने का रिस्क नहीं उठा सकता।

@vicharodaya

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here