देश का विकास तब तक नहीं हो सकता जब तक हम अनाथ-बेसहारा और समाज के दुत्कारे हुए बच्चों के लिए कुछ सकारात्मक पहल न कर सकें. शिक्षा के साथ-साथ हमारा लक्ष्य यह भी होना चाहिए कि उन्हें परिवार का प्यार भी मिले.

Advertisement

इन सब बातों को ध्यान में रखते हुए स्कार्ड संस्था ( सोशल कलेक्टिव एक्शन फॉर रिसर्च एंड डेवलपमेंट) देशव्यापी कैंपेन “होपिंग फॉर होप” की शुरुआत कर रहे हैं जिसके तहत अनाथ और बेसहारा बच्चों को देश भर में चिन्हित किया जाएगा तथा यह कोशिश की जाएगी की उनके बचपन को बचाया जाए साथ ही साथ उन्हें उचित शिक्षा भी मुहैया कराई जाए.

भोपाल में चॉकलेट और मिठाई के फैक्टरी में खुलेआम मिलावट क्राइम ब्रांच ने मारा छापा

स्कार्ड संस्था के अध्यक्ष डॉ विपिन अग्निहोत्री के मुताबिक संस्था इस कैंपेन के माध्यम से इस बात की पूरी कोशिश करेगी कि इन बच्चों को परिवार का प्यार मिले, बेहतर देखभाल हो , अच्छा खाना और अच्छी शिक्षा मिले.

क्राइम ब्रांच ने मारा छापा, एसपी ने किया पुलिसकर्मियों को निलंबित

शुरुआती चरण में कैंपेन की शुरुआत उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, मध्य प्रदेश, राजस्थान, दिल्ली, हरियाणा और बिहार में होगी. एक्सपर्ट्स के मुताबिक, अनाथ बच्चों को बाल गृह भेज दिया जाता है। बाल गृह में मासूमों की बेहतर देखभाल नहीं होती। अच्छी पढ़ाई के संसाधन भी मुहैया नहीं हो पाते। बीमार बच्चों को इलाज तक नहीं मिल पाता।

कोरोना वैक्सीन लेने के 16 दिन बाद डॉक्टर की मौत, हाथ-पैरों में हो गए थे छोटे छोटे धब्बे

सरकारी अस्पताल में आग लगने से 10 नवजात झुलसे, पीएम ने जताया दु:ख

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply