सीधी जिले में यात्री बस के नहर में गिरने के दर्दनाक हादसे के बाद प्रदेश में आज से बसों का सघन चेकिंग अभियान शुरू हुआ। भोपाल में खुद परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत बसों का निरीक्षण करने सड़क पर उतरे। वह आज सुबह तकरीबन दस बजे परिवहन विभाग के आला अधिकारियों के साथ 11 मील क्षेत्र में पहुंचे और वहां से गुजर रही बसों को चेक किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि चेकिंग अभियान सिर्फ सात दिन नहीं, बल्कि निरंतर चलेगा। नियमों का पालन नहीं करने वाले ड्राइवरों के लाइसेंस निरस्त होंगे। किसी भी अफसर और परिवहन माफिया को नहीं बख्शा जाएगा। यहां के बाद परिवहन मंत्री ने रायसेन रोड पर भीपहुंचकर बसों का निरीक्षण किया।

Advertisement

सड़क सुरक्षा माह के तहत रासेयों स्वयंसेवकों ने निकाली पोस्टर रैली

ग्यारह मील क्षेत्र में निरीक्षण के दौरान कई बसों में खामियां मिलीं। एक बस के फर्स्टएड बॉक्स में एक्सपायरी दवाएं रखीं थीं। इस पर परिवहन मंत्री ने ड्राइवर को चेतावनी दी और कहा- मरवाओगे क्या किसी को। इसके साथ ही उन्होंने मौके पर ही आरटीओ संजय तिवारी को दिए बस क्रमांक एमपी-04 पीए2260 को जब्त करने के निर्देश भी दिए। 11 मील पर खामियों को लेकर एक दर्जन बसों को खड़ा किया।

मध्यप्रदेश के सीधी में बड़ा बस हादसा, देखें वीडियो

यात्रियों ने कसा तंज
हालांकि इस चेकिंग अभियान के दौरान कुछ यात्री परिवहन विभाग पर तंज भी कसते नजर आए। एक यात्री ने कहा- चार दिन की चांदनी, फिर अंधेरी रात। यात्रियों का कहना यदि हमेशा सतर्क रहते तो सीधी बस हादसे में 51 लोगों को जान नहीं जाती। परिवहन माफिया पर नकेल कसने को लेकर मुख्यमंत्री, परिवहन मंत्री, अधिकारी हादसे के बाद ही जागते हैं। कुछ दिन अभियान चलता है और फिर वही ढाक के तीन पात।

11 मील क्षेत्र में निरीक्षण के बाद परिवहन मंत्री रायसेन रोड के लिए रवाना हो गए। उनके काफिले में 20 से अधिक गाड़िया थीं, जिससे ट्रैफिक भी बाधित हुआ।

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply