पूर्व सांसद को जेल में नहीं मिला पानी और कमोड तो बैठे भूख हड़ताल पर

    Share this News

    जन अधिकार पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व सांसद पप्पू यादव की लॉकडाउन उल्लंघन मामले में गिरफ्तारी की गयी थी उन्‍हें मंगलवार की देर रात पटना से मधेपुरा भेजे जाने के बाद सुपौल के वीरपुर जेल में शिफ्ट किए गया जहां उन्होंने भूख हड़ताल (Hunger Strike) कर दी है. वो जेल में सुविधा नहीं मिलने से नाराज हैं.

    मध्य प्रदेश के इस गांव की नदी में मिले रहे शव, लोगों में खोफ का माहोल

    पप्पू यादव कुछ ही दिन पहले बीमारी के बाद ऑपरेशन करवा कर स्वास्थ्य लाभ कर रहे हैं. पप्पू ने जेल जाने से पहले भी कोर्ट के समक्ष अपनी बीमारी का हवाला दिया था. पप्पू ने ट्वीट कर जानकारी दी और लिखा है वीरपुर जेल में मैं भूख हड़ताल पर हूं। न पानी है, न वाशरूम है, मेरे पांव का ऑपरेशन हुआ था, नीचे बैठ नहीं सकता, कमोड भी नहीं है. कोरोना मरीज की सेवा करना,उनकी जान बचाना, दवा माफिया,हॉस्पिटल माफिया,ऑक्सीजन माफिया,एम्बुलेंस माफिया को बेनकाब करना ही मेरा अपराध है। मेरी लड़ाई जारी है!

    इससे पहले मंगलवार को जन अधिकार पार्टी के संरक्षक और पूर्व सांसद पप्पू यादव को गिरफ्तारी के बाद 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है. इससे पहले मंगलवार को पटना से हुई गिरफ्तारी के बाद पप्पू यादव के समर्थकों के भारी विरोध के बीच मधेपुरा ले जाया गया. रात के लगभग 10:50 बजे 30 से अधिक गाड़ियों के काफिले के साथ पप्पू यादव को मधेपुरा कोर्ट लाया गया. पप्पू यादव की पेशी के लिए रात 11 बजे मधेपुरा सिविल कोर्ट को खोला गया.

    पेट्रोल डीजल ने फोड़ा महंगाई बम! भोपाल में पेट्रोल 100 के पार, जानें अपने शहर के दाम

    कोर्ट के कर्मचारी अपने कार्यालय पहुंचे जहां से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से पप्पू की पेशी हुई. पेशी के दौरान उन्होंने कोर्ट के सामने अपनी बीमारी का भी हवाला बेहतर स्वास्थ्य सुविधा की मांग की. पप्पू यादव की पेशी को लेकर बड़ी संख्या में जगह-जगह पुलिस बल की तैनाती की गयी थी, फिर भी सैकड़ों समर्थक रात के अंधेरे में जगह-जगह डटे दिखे.

    मध्य प्रदेश: हरदा में पटाखे बनाते समय विस्फोट, एक ही परिवार की तीन महिलाओं की मौत