वन मंत्री ने जताई नाराजगी,हिंदी भाषा में किया जाएगा अधिकांश कामकाज

वन मंत्री ने जताई नाराजगी,हिंदी भाषा में किया जाएगा अधिकांश कामकाज

Share this News

वन मंत्री के निर्देश के बाद अब संभव है कि अधिकांश कामकाज हिंदी भाषा में किया जाएगा।

सरकारी अधिकारी विभागीय कामों के लिए अब हिंदी को प्राथमिकता देंगे, इसकी सूचना वन मंत्री नागर सिंह चौहान के निर्देश के बाद हुई है। वन मंत्री ने अपने विभाग को इस फैसले के लिए निर्देश जारी किए हैं, जिसमें उन्होंने कहा है कि सभी कामकाज, प्रस्ताव और नस्तियां हिंदी में तैयार की जाएंगी।

वित्त विभाग ने मध्य प्रदेश के 26 विभागों के तीन महीने के खर्चों के लिए नई बजट सीमा का किया ऐलान

अब से, अंग्रेजी में बने जाने वाले प्रस्ताव स्वीकार नहीं किए जाएंगे और सभी दस्तावेज हिंदी में तैयार किए जाएंगे। इस निर्णय के परिणामस्वरूप, वन विभाग और मुख्यालय के उच्च अधिकारियों के बीच पत्र-व्यवहार और संबंधित दस्तावेज अब हिंदी में होंगे।

इस स्थिति का निर्णय वन मंत्री नागर सिंह चौहान के सुझाव पर लिया गया है, जो हमेशा से सरकारी कामकाज में हिंदी को प्राथमिकता देने का समर्थन करते रहे हैं। इसके पूर्व में, वर्ष 2015 में भोपाल में हुए विश्व हिंदी सम्मेलन में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सभी विभागों को हिंदी में सरकारी काम करने के लिए निर्देश दिए थे, जिसे अब पूरा किया जा रहा है।

हमें व्हाट्सएप पर फॉलो करें

Advertisement
Bhopal: आशा कार्यकर्ता से 7000 की रिश्वत लेते हुए बीसीएम गिरफ्तार Vaidik Watch: उज्जैन में लगेगी भारत की पहली वैदिक घड़ी, यहां होगी स्थापित मशहूर रेडियो अनाउंसर अमीन सयानी का आज वास्तव में निधन हो गया है। आज 91 वर्षीय अमीन सयानी का दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया है। इस बात की पुष्टि अनेक पुत्र राजिल सयानी ने की है। अब बोर्ड परीक्षाओं का आयोजन वर्ष में दो बार किया जाएगा। इंदौर में युवाओं ने कलेक्टर कार्यालय को घेरा..