सतपुड़ा भवन में फिर लगी आग,फायर कर्मियों ने डेढ़ घंटे बाद पाया आग पर काबू

सतपुड़ा भवन में फिर लगी आग,फायर कर्मियों ने डेढ़ घंटे बाद पाया आग पर काबू
सतपुड़ा भवन में फिर लगी आग,फायर कर्मियों ने डेढ़ घंटे बाद पाया आग पर काबू
Share this News

राजधानी भोपाल के सतपुड़ा भवन में आग लगने का मामला एक बार फिर सामने आया है मिली जानकारी के मुताबिक शाम करीब 4 बजे सतपुड़ा भवन के चौथे फ्लोर आग लगी जिसे डेढ़ घंटे की मशक्कत के बाद काबू में पाया गया

भोपाल स्थित सतपुड़ा भवन में एक बार फिर आग लगने की खबर सामने आ रही है बताया जा रहा है कि इस बार आज सतपुड़ा भवन के चौथा फ्लोर पर करीब चार से पांच जगह लगी है जिसे सुरक्षाकर्मियों द्वारा डेढ़ घंटे की मशक्कत के बाद काबू में पाया गया आपको बता दें शाम करीब 4:00 बजे सतपुड़ा भवन के चौथा फ्लोर से धुआं उठता दिखा था

शुरुआती जानकारी के मुताबिक जो दस्तावेज पिछली बार जल गए थे उन्हें दस्तावेजों में फिर से आग लगी है जिसे नगर निगम और फायर ब्रिगेड के टीम के द्वारा आधे घंटे में काबू पा लिया गया

सतपुड़ा भवन में फिर लगी आग
सतपुड़ा भवन में फिर लगी आग

फिलहाल घटना स्थल पर मौजूद कर्मचारी आज से प्रभावित हिस्से को दोबारा चेक कर अधिक हानि होने से रोक रहे हैं

8 महीने पहले भी सतपुड़ा भवन में लगी थीं आग

भोपाल में मध्यप्रदेश सरकार के दूसरे सबसे बड़े सरकारी दफ्तर सतपुड़ा भवन में सोमवार शाम करीब 3.30 बजे लगी आग मंगलवार दोपहर 12 बजे तक पूरी तरह बुझाई जा सकी। मंगलवार सुबह 8 बजे तक टीम ने आग पर काबू पा लिया था, लेकिन 6वें फ्लोर से धुआं उठ रहा था। इसी फ्लोर पर सुबह 9.25 बजे फिर आग भड़क गई। इससे पहले भोपाल कलेक्टर आशीष सिंह ने आग पर पूरी तरह काबू पाने की जानकारी दी थी। सतपुड़ा भवन में संचालित होने वाले सरकारी दफ्तरों में मंगलवार को छुट्टी रही। सामान्य प्रशासन विभाग ने इस संबंध में आदेश जारी किए थे।

स्वामी प्रसाद मौर्य ने सपा का छोड़ा साथ, MLC पद से दिया इस्तीफा

उधर, राज्य मानवाधिकार आयोग ने भोपाल कलेक्टर आशीष सिंह, कमिश्नर मालसिंह भयड़िया और नगर निगम को नोटिस भेजे हैं। इसमें आग लगने की घटना पर तीन सप्ताह में जवाब मांगा गया है। आयाेग ने सवाल उठाया है कि निगम की फायर ब्रिगेड में 80% दमकलकर्मी हैं? आग बुझाते वक्त अमला बेबस नजर क्यों आया? आग पर काबू नहीं पाने की बड़ी वजह अनट्रेंड फायर फाइटर्स और अधूरे आउटडेटेड संसाधन रहे। ऐसा क्यों?

इससे पहले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने घटना को लेकर सुबह 10 बजे सीएम हाउस में रिव्यू मीटिंग की। स्वास्थ्य मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने बताया, ‘सीएम ने जांच के लिए हाई लेवल कमेटी गठित की है।’ उन्होंने कांग्रेस के आरोपों पर कहा, ‘वहां कोई भी ऐसे महत्वपूर्ण दस्तावेज नहीं थे, जो इस तरह का काम किया जाए। कांग्रेस के आरोप बेबुनियाद है। सतपुड़ा भवन में 4000 से ज्यादा कर्मचारी काम करते हैं, कोई इस तरह की साजिश क्यों करेगा।’

हमें व्हाट्सएप पर फॉलो करें