कोरोना पॉजिटिव होने के बाद भी विद्यार्थी अब बोर्ड परीक्षा में शामिल हो सकते हैं दरअसल माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा बोर्ड परीक्षा के लिए बनाए जा रहे परीक्षा केंद्रों में एक आइसोलेशन कक्ष बनाया गया है, जिसमें कोरोना सस्पेक्टेड व पॉजिटिव विद्यार्थी परीक्षा देंगे। मंडल ने यह निर्णय संवेदना हेल्प लाइन नंबर पर विद्यार्थी द्वारा पूछे गए कोविड से संबंधित प्रश्नों के बाद लिया गया। विद्यार्थी का प्रश्न रहा कि यदि बोर्ड परीक्षा के दौरान किसी विद्यार्थी को कोरोना होता है तो उस स्थिति में परीक्षा कैसे और कहां देना होगा या शिक्षा विभाग उन विद्यार्थियों की परीक्षा बाद में लेगा। गौरतलब है कि राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग द्वारा संचालित होने वाली संवेदना हेल्प लाइन नंबर पर विद्यार्थियों द्वारा रोजाना 2 सौ से अधिक फोन कॉल किए जाते हैं, जिसमें करीब 50 कॉल कोरोना से संबंधित रहते हैं। माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा इस साल प्रदेशभर में करीब 4 हजार बोर्ड परीक्षा केंद्र बनाएं गए है, जिसमें जिले में कुल 105 स्कूलों को परीक्षा केंद्र बनाया है।

Advertisement

MP में 10वीं-12वीं की परीक्षाओं पर कोरोना का संकट, आगे बढ़ सकती है परीक्षा तारीख

केस-1 दसवीं कक्षा में पढ़ने वाले छात्र ने बताया कि सितंबर में उसकी कोविड रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। उस दौरान स्कूल प्रबंधन द्वारा परीक्षा ऑनलाइन आयोजित कराई गई थी। यदि बोर्ड परीक्षा के दौरान वह संक्रमित होता है तो उस स्थिति में परीक्षा ऑनलाइन होगी या परीक्षा केंद्र जाकर परीक्षा देनी होगी।

बॉलीवुड के खिलाड़ी अक्षय कुमार हुए कोरोना पॉजिटिव, ट्वीट कर दी फैंस को जानकारी

केस-2 बारहवीं कक्षा में पढ़ने वाली छात्रा ने बताया कि उसकी कॉलोनी में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। पॉजिटिव मरीज होम आइसोलेट है। इस दौरान यदि परीक्षा के पहले या परीक्षा के दौरान उसके परिवार का कोई सदस्य कोविड पॉजिटिव होता है उस स्थिति में वह परीक्षा किस तरह दे सकती है।

भोपाल के टी टी नगर स्टेडियम में भी पहुंचा कोरोना,10 खिलाड़ी सहित 15 पॉजिटिव

केस-3 दसवीं कक्षा के छात्र ने बताया कि उसके घर में बीते सप्ताह पिता की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है और वह अस्पताल में भर्ती हैं। बोर्ड परीक्षा की तारीख नजदीक हैं। परिवार का एक सदस्य कोविड पॉजिटिव होने पर बोर्ड परीक्षा देने मिलेगी कि नहीं।

कोरोना वैक्सीनेशन में बड़ी लापरवाही, फोन पर मशगूल नर्स ने महिला को दो बार टीका लगाया

केस-4 बाहरवीं कक्षा में पढ़ने वाली छात्रा ने बताया कि उसके घर की पहली व दूसरी मंजिल में किरायदार रहते हैं। यदि किराएदार कोरोना पॉजिटिव या सस्पेटिड आते हैं तो उस स्थिति में वह परीक्षा दे सकती हूं कि उसे भी आइसोलेशन में रहना होगा। इससे उसका पूरा एक साल खराब हो जाएगा।

 

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply