भोपाल के गोविंदपुरा में धरने पर बैठे बिजलीकर्मी।
Share this News

DA-वेतनवृद्धि के एरियर की राशि नहीं मिलने से नाराज चल रहे मध्यप्रदेश के करीब 70 हजार बिजलीकर्मियों ने हड़ताल वापस ले ली है। विभाग के PS संजय दुबे से चर्चा के बाद उन्होंने हड़ताल खत्म कर दी। 6 किस्तों में इंक्रीमेंट देने और DA के आदेश जल्द करने के आश्वासन के बाद बिजलीकर्मी मंगलवार को ही काम पर लौट गए।

अब चेतावनी नहीं दूंगा, सीधे कार्रवाई करूंगा… एमपी के गृह मंत्री ने सब्यसाची मुखर्जी को चेताया

मध्यप्रदेश यूनाइटेड फोरम फॉर पॉवर एम्पलाईज एंड इंजीनियर्स संगठन के बैनर तले बिजली कर्मियों ने 1 नवंबर से हड़ताल शुरू कर दी थी। पहले दिन सरकार का कोई सकारात्मक रवैया नहीं मिलने से मंगलवार से उन्होंने हड़ताल को और भी मजबूत करने का निर्णय लिया। मंगलवार सुबह से उन्होंने फाल्ट या अन्य प्रकार की शिकायतों की सुनवाई नहीं दी। इसी बीच दोपहर में विभाग के PS दुबे से चर्चा की और हड़ताल वापस लेने की घोषणा कर दी।

संगठन के संयोजक वीकेएस परिहार ने बताया, ऊर्जा विभाग के PS से चर्चा के बाद हड़ताल वापस ली गई है। मांगों के निराकरण करने का आश्वासन दिया है। वहीं, संविदा और आउटसोर्स कर्मचारियों की मांगों पर भी सहमति बनी है।

MP में बिजलीकर्मियों की हड़ताल शुरू,DA-वेतनवृद्धि का एरियर नहीं मिलने से नाराज

अब नहीं पड़ेगा दिवाली के उल्लास में खलल

बिजलीकर्मियों ने मांगों को लेकर अपना कड़ा रूख अख्तियार कर लिया था। इस कारण दिवाली के उल्लास में खलल पड़ने की संभावना थी, लेकिन हड़ताल खत्म होने से आम लोगों के लिए राहत की बात होगी।

इतने कर्मचारी हड़ताल पर थे

करीब 29 हजार नियमित, 6 हजार संविदा और 35 हजार आउटसोर्स कर्मचारी हड़ताल पर थे।

Dhanteras 2021: क्यों धनतेरस के दिन झाड़ू खरीदने का है विशेष महत्व ? इन बातों का रखें खास ध्यान

इसलिए शुरू की थी हड़ताल

21 अक्टूबर को CM शिवराज सिंह चौहान ने महंगाई भत्ता और वेतनवृद्धि की एरियर्स की बकाया राशि के भुगतान की घोषणा की थी, लेकिन प्रदेश की बिजली कंपनियों ने इस पर अब तक कोई निर्णय नहीं लिया, जबकि 4 नवंबर को दीपावली है। इस संबंध में 28 अक्टूबर को ऊर्जा मंत्री को लैटर लिखकर DA- वेतनवृद्धि की राशि समेत अन्य 5 सूत्रीय मांगों के निराकरण करने की मांग की गई थी। फिर भी कंपनियों ने निर्णय नहीं लिया तो 1 नवंबर से फिर से आंदोलन शुरू कर दिया था।

संगठन की यह थीं मांगें, जो मंजूर की गई

  • बिजलीकर्मियों के महंगाई भत्ता एवं स्थगित वेतनवृद्धि के बकाया राशि के 50% का भुगतान अक्टूबर के वेतन के साथ किया जाए।
  • बिजलीकर्मियों के लिए 1 अप्रैल 2021 से 14% एनपीएस का प्रावधान तुरंत लागू किया जाए।
  • संविदा के अधिकारी-कर्मचारियों का वेतनवृद्धि एवं डीए भी पिछले सालों में नहीं लगाया गया है। इसलिए सभी संविदाकर्मियों के अक्टूबर के वेतन में डीए की राशि भी दी जाए।
  • आउटसोर्स कर्मियों के बोनस के भुगतान के साथ उनका अक्टूबर माह का वेतन भी दीपावली से पहले दिया जाए।
  • कर्मचारियों को विद्युत देयकों में मिलने वाली 50% छूट को बंद करने के निर्णय को तत्काल वापस लिया जाए।

हमसे व्हाट्सएप ग्रुप पर जुड़े