ED ने छत्तीसगढ़ में 2,000 करोड़ रुपये के शराब ‘घोटाले’ का किया भंडाफोड़, नेता-नौकरशाह की सांठगांठ का आरोप

ED ने छत्तीसगढ़ में 2,000 करोड़ रुपये के शराब ‘घोटाले’ का किया भंडाफोड़, नेता-नौकरशाह की सांठगांठ का आरोप

Share this News

शराब घोटाले में ईडी की ओर से कहा गया है कि बीते मार्च महीने में कई ठिकानों में छापेमारी से जुटाए साक्ष्य और इस अवैध कारोबार से जुड़े लोगों के बयान से 2019 से 2022 के बीच 2000 करोड़ रुपये से ज्यादा के भ्रष्टाचार और मनी लॉन्ड्रिंग का पता चला है।…

Chhattisgarh Liquor Scam: प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने 2,000करोड़ रुपये के शराब घोटाले का भंडाफोड़ किया है, जो कथित तौर पर छत्तीसगढ़ में शीर्ष राजनेताओं और नौकरशाहों की मदद से संचालित किया जा रहा था, जहां कांग्रेस सत्ता में है। ED ने मामले के मुख्य आरोपी अनवर ढेबर को भी गिरफ्तार किया है और उसे चार दिनों के लिए EDकी हिरासत में भेज दिया गया है। अनवर ढेबर कांग्रेस नेता और रायपुर के मेयर एजाज ढेबर के भाई हैं।

आपको बता दें कि,जांच एजेंसी ने पहले मार्च में कई स्थानों पर तलाशी ली थी और कथित घोटाले में शामिल विभिन्न व्यक्तियों के बयान दर्ज किए थे। एजेंसी का दावा है कि उसने “2019और 2022के बीच 2,000करोड़ रुपये के अभूतपूर्व भ्रष्टाचार और मनी लॉन्ड्रिंग” के सबूत एकत्र किए हैं। EDने कहा कि,“PMLAजांच से पता चला है कि अनवर ढेबर के नेतृत्व में एक संगठित आपराधिक सिंडिकेट छत्तीसगढ़ में काम कर रहा था। अनवर ढेबर, हालांकि एक निजी नागरिक थे, को उच्च-स्तरीय राजनीतिक अधिकारियों और वरिष्ठ नौकरशाहों के अवैध संतुष्टि के लिए समर्थन और काम किया गया था।”

भाजपा में नाराज नेताओं से मुलाकात का सिलसिला शुरू,कांग्रेस के पूर्व मंत्री शिवराज से मिलने पहुंचे सीएम हाउस

अधिकारियों के अनुसार, अनवर ने एक विस्तृत साजिश रची और घोटाले को अंजाम देने के लिए व्यक्तियों और संस्थाओं का एक व्यापक नेटवर्क तैयार किया ताकि छत्तीसगढ़ में बेची जाने वाली शराब की प्रत्येक बोतल से अवैध रूप से पैसा एकत्र किया जा सके। खबरों के अनुसार,छत्तीसगढ़ में कई नौकरशाह और राजनेता ईडी की जांच के दायरे में हैं।

राज्य में राजस्व का सबसे बड़ा जरिया शराब में वसूली जाने वाली एक्साइज ड्यूटी है। आबकारी विभाग की जिम्मेदारी शराब की आपूर्ति सुनिश्चित करने, शराब की गुणवत्ता तय करने और अवैध शराब की सप्लाई पर रोक लगाना है। लेकिन अनवर ढेबर के बनाए सिंडिकेट के चलते इसके विपरीत काम हो रहा था।

Download our App Now

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Bhopal: आशा कार्यकर्ता से 7000 की रिश्वत लेते हुए बीसीएम गिरफ्तार Vaidik Watch: उज्जैन में लगेगी भारत की पहली वैदिक घड़ी, यहां होगी स्थापित मशहूर रेडियो अनाउंसर अमीन सयानी का आज वास्तव में निधन हो गया है। आज 91 वर्षीय अमीन सयानी का दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया है। इस बात की पुष्टि अनेक पुत्र राजिल सयानी ने की है। अब बोर्ड परीक्षाओं का आयोजन वर्ष में दो बार किया जाएगा। इंदौर में युवाओं ने कलेक्टर कार्यालय को घेरा..