कोरोना वायरस पर रिसर्च करने वाले चीन में जन्मे शोधकर्ता की अमरीका में हुई मौत को लेकर पूरी दुनिया में ‘साज़िश की कहानियाँ’ गढ़ी जा रही हैं.

Advertisement

37 साल के बिंग ली शनिवार को अपने घर में मृत मिले थे. वे यूनिवर्सिटी ऑफ़ पीट्सबर्ग के स्कूल ऑफ़ मेडिसीन विभाग में असिस्टेंट प्रोफ़ेसर थे.https://www.instagram.com/p/B_4evRzAPBw/?igshid=oypj9o3n1rbr

उनके साथ काम करने वाले लोगों का कहना है कि वो कोविड-19 को लेकर ‘अहम खोज’ करने के क़रीब पहुँच चुके थे. इसके बाद से ऑनलाइन मीडिया पर उनकी हत्या की बात सामने आई. पुलिस का कहना है कि इस में दो लोगों की जान गई है. एक की हत्या हुई है और दूसरे ने ख़ुदकुशी कर ली.https://youtu.be/8F_zLeAI0sk

स्थानीय पुलिस के मुताबिक़ पिट्सबर्ग में बिंग ली के सिर, धड़, हाथ-पैर और गर्दन में गोली लगी हुई थी. गोली मारने वाले संदिग्ध की पहचान 46 साल के सॉफ्टवेयर इंजीनियर हाउ गु के रूप में हुई है.एम्स डायरेक्टर बोले- कोरोना के साथ ही जीना होगा, जून में आएंगे सबसे ज्यादा केस


Advertisement
Advertisement

Leave a Reply