शिवपुरी के जंगल में मिले 200 से ज्यादा गायों के शव,मचा हड़कंप

शिवपुरी के जंगल में मिले 200 से ज्यादा गायों के शव,मचा हड़कंप

Share this News

मध्य प्रदेश स्थित शिवपुरी के जंगल में 200 से ज्यादा गायों के शव मिलने से हड़कंप मच गया आशंका जताई जा रही है की इन सभी गायों की मौत पॉलीथीन खाने की वजह से हुई है जिन्हें कहीं और से लाकर शिवपुरी स्थित करैरा के जंगल में डंप किया गया है

एक साथ 200 से ज्यादा गायों के शव मिलने का मामला मध्य प्रदेश के शिवपुरी जिले से सामने आया है मिली जानकारी के मुताबिक बीते शनिवार को शिवपुरी स्थित करेड़ा थाना क्षेत्र के जंगल में 200 से अधिक गोवंश के शव मिले हैं आशंका जताई जा रही है कि इन सभी गायों की मौत कहीं और हुई है जहां से इन सभी गायों के शव को उठाकर करेरा के जंगलों में ठिकाने लगाया गया है हालांकि इसका प्रशासन की तरफ से कोई ठोस जवाब सामने नहीं आया है तो वहीं दूसरी ओर इन सभी गोवंश के शव को देखकर ग्रामीणों में हड़कंप मचा हुआ है।

शिवपुरी के जंगल में मिले 200 से ज्यादा गायों के शव,मचा हड़कंप
शिवपुरी के जंगल में मिले 200 से ज्यादा गायों के शव,मचा हड़कंप

हालांकि आनन-फानन में प्रशासन की ओर से पूरी घटना की जांच के आदेश तो दे दिए गए हैं लेकिन यहां सवाल यह उठता है कि इतने सारे गोवंश की अचानक मौत कैसे हुई? जंगल में इतने सारे गोवंश कहां से आई? क्या इसके पीछे कोई बड़ी साजिश है? आपको बता दे यह सभी गोवंश के शव नेशनल हाईवे संख्या 27 पर करेड़ा तहसील से गुजरने वाले मार्ग पर मैच 500 मीटर दूरी पर पाए गए हैं

UP Police Paper Leak: यूपी सिपाही भर्ती पेपर लीक! फोन पर भेजा गया सॉल्व पेपर हुआ वायरल

गायों के पेट से निकल रहा प्लास्टिक
वहीं सिल्लारपुर पंचायत के सरपंच अरविंद लोधी ने कहा कि इन मृत गायों के पेट से पॉलिथीन निकल रहा है. उन्होंने बताया कि इन गायों की मौत प्लास्टिक खाने से हुआ है. ऐसा लगता है कि मरने के बाद शहरी क्षेत्र से ट्रकों में भरकर यहां पटका गया है. हकीकत चाहे जो हों, इस घटना से शिवपुरी ही नहीं, पूरे राज्य में खलबली मच गई है. ऐसे हालात में शासन या प्रशासन की ओर से किसी तरह का बयान जारी करने में भरसक परहेज किया जा रहा है.

डेयरी विभाग के एमसी ने ये कहा
इतनी बड़ी संख्या में गोवंशों की मौत के मामले का सामने आना न सिर्फ कई बड़े प्रश्न खड़े कर रहा है, बल्कि सिस्टम को भी कटघरे में खड़ा करता हुआ दिखाई दे रहा है. इस मामले में डेयरी विभाग के संचालक एमसी तमौरी का कहना है कि मृत गोवंश किसी गौशाला का नहीं है. जब उनसे पूछा गया कि गौशाला का नहीं है तो किसका है, तो इसका जवाब वे भी नहीं दे पाए. बस जांच की दुहाई देते नजर आए.

Election 2024: BJP का थीम सांग रिलीज, 6 मिनट के वीडियो में दिखेगी नारी शक्ति

भारी दुर्गंध के बीच डंप करना है नामुमकिन
स्थानीय लोगों का कहना है कि इस तरह का जो मामला जंगल से सामने आया है, वह एक-एक कर ऐसा करना संभव नहीं है. ग्रामीण कहते हैं कि जिधर देखो वहां सिर्फ गोवंश के ही शव बिखरे पड़े हैं. यहां भारी दुर्गंध के बीच संभव नहीं है कि एक आदमी एक या दो गोवंश को ले जाकर वहां डंप किया होगा. लोगों का कहना है कि इस इलाके में जिस तरह से यहां गोवंशों के शव बिखरे पड़े हैं. उन्हें देखकर साफ तौर पर यह कहा जा सकता है कि मामले की एक बड़ी जांच होना चाहिए.

वन विभाग है अनजान
जंगल के बीचो-बीच मिले बड़ी तादाद में मिले गोवंश के शव से वन विभाग भी कटघरे में आ गया है. आखिर, कैसे इतनी बड़ी तादाद में यहां गोवंशों के शव पहुंच गए और अगर शब पहुंचे हैं, तो फिर इसकी जानकारी वन विभाग को कैसे नहीं लगी, फिलहाल, इस संबंध में वन विभाग का कुछ भी कहना नहीं है और वह चुप्पी साधे हुए हैं, लेकिन इस मामले की कहीं न कहीं जांच जरूर किए जाने की जरूरत है.

हमें व्हाट्सएप पर फॉलो करें

CBSE 10th क्लास के सैंपल पेपर जारी,ऐसे करें डाउनलोड Bhopal: आशा कार्यकर्ता से 7000 की रिश्वत लेते हुए बीसीएम गिरफ्तार Vaidik Watch: उज्जैन में लगेगी भारत की पहली वैदिक घड़ी, यहां होगी स्थापित मशहूर रेडियो अनाउंसर अमीन सयानी का आज वास्तव में निधन हो गया है। आज 91 वर्षीय अमीन सयानी का दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया है। इस बात की पुष्टि अनेक पुत्र राजिल सयानी ने की है। अब बोर्ड परीक्षाओं का आयोजन वर्ष में दो बार किया जाएगा।