Share this News

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने Covid-19 के अगले चरण को लेकर एक नया वैज्ञानिक शोधपत्र प्रकाशित किया है. इसमें कहा गया है कि जो लोग कोरोना वायरस के संक्रमण से ठीक हो चुके हैं, उनके ब्लड में मौजूद एंटीबॉडीज कोरोना वायरस का संक्रमण रोक सकती हैं या नहीं, अब तक इस बात के कोई सबूत नहीं मिले हैं. सर्वाइवर की एंटीबॉडी की वजह से उनमें कोरोना का संक्रमण दोबारा नहीं होगा, इस पर भी अभी कुछ नहीं कहा जा सकता है.

लॉकडाउन की बोरियत में जाह्नवी कपूर ने शेयर की सनकिस्ड सेल्फी..

कुछ सरकारों ने कोविड-19 के एंटीबॉडी का पता लगाने और उसके आधार पर इलाज की सलाह दी थी. इसके पहले कुछ विशेषज्ञों ने कहा था कि एंटीबॉडी वाले व्यक्तियों को यह मानकर चलना चाहिए कि वे दोबारा संक्रमण से सुरक्षित हैं. वे यात्रा करने या काम पर लौटने में सक्षम हैं. एंटीबॉ​डी शरीर में मौजूद वह तंत्र है जिसके सहारे शरीर किसी रोग से लड़ता है.

PM मोदी बोले- कोरोना से मिला सबसे बड़ा सबक- हमें आत्मनिर्भर बनना ही होगा..

डब्ल्यूएचओ का कहना है, “मौजूदा वक्त में इस बात के कोई सबूत नहीं है कि जो लोग कोरोना वायरस (Covid-19) के संक्रमण से लड़कर स्वस्थ हो चुके हैं और जिनमें एंटीबॉडी विकसित हो चुकी हैं, वे दोबारा सं​क्रमित नहीं हो सकते”.

यह वैज्ञानिक शोधपत्र शुक्रवार को प्रकाशित हुआ है. इसमें कहा गया है, “प्राकृतिक रूप से संक्रमण के जरिए कोई बीमारी हुई है, तो उसके रोगाणु से लड़ने के लिए शरीर में प्रतिरक्षा तंत्र का विकास कई चरणों में होता है. इसमें एक से दो सप्ताह या इससे ज्यादा का वक्त लगता है.”

एमेजॉन, फ्लिपकार्ट जैसे दिग्गजों को चुनौती देने! जल्द आएगा दुकानदारों का अपना पोर्टल ‘ई-लाला’..

शरीर अपने प्रतिरक्षा तंत्र से वायरस को खत्म करता है

किसी संक्रमण के जवाब में मानव शरीर में विकसित एंटीबॉडी दरअसल इम्यूनोग्लोबुलिन नामक प्रोटीन है. शरीर T-cells (टी-कोशिकाओं) का भी निर्माण करता है जो वायरस से संक्रमित अन्य कोशिकाओं की पहचान करती हैं और उन्हें खत्म करने का काम करती हैं. इस प्रक्रिया को सेलुलर इम्युनिटी कहा जाता है. अधिकांश वायरल संक्रमणों में जब शरीर अपने प्रतिरक्षा तंत्र से वायरस को खत्म करता है. अगर यह प्रतिरक्षा तंत्र पर्याप्त मजबूत है, तो यह दोबारा उसी वायरस या बीमारी के संक्रमण को रोकता है.” शरीर की इस प्रतिक्रिया या प्रतिरक्षा को मापने के लिए ब्लड में मौजूद एंटीबॉडी को मापा जाता है.

दुबई में फंसे सोनू निगम पर मचा सोशल मीडिया पर बवाल, उठी गिरफ्तारी की मांग

डब्ल्यूएचओ का कहना है कि वह इस बात की समीक्षा जारी रखेगा कि SARS-CoV-2 संक्रमण के मामले में एंटीबॉडी की क्या भूमिका है. 24 अप्रैल तक इस बात के कोई सबूत नहीं मिले हैं कि अगर किसी शरीर में SARS-CoV-2 के एंटीबॉडी मौजूद हैं तो उसे संक्रमण से सुरक्षा मिल चुकी है.

कई देश एंटीबॉडी टेस्ट को लेकर काफी उत्साहित थे. लेकिन उनके लिए यह एक तरह का झटका है, क्योंकि अभी तक इस बात के कोई प्रमाण नहीं हैं कि एक बार कोरोना संक्रमित हो चुके इंसान को दोबारा संक्रमण नहीं होगा. अगर किसी शरीर में एंटीबॉडी का स्तर अच्छा है तो भी यह नहीं कहा जा सकता है कि वह कोरोना संक्रमण से सुरक्षित है.