कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते मध्य प्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर को 25 मार्च तक लॉकडाउन किया गया। इस बाबत कलेक्टर लोकेश कुमार जाटव ने आदेश जारी किए। जाटव ने शहरवासियों से घरों में ही रहने की अपील की है। उन्होंने कहा कि बिना की महत्वपूर्ण आवश्यकता के लोग घर से बाहर नहीं निकले।

Advertisement

कोरोना का कहर: IPL 2020 के भविष्य का फैसला कॉन्फ्रेंस कॉल से होगा..

कोराना वायरस अलर्ट के चलते खंडवा 5 दिन के लिए लॉकडाउन-

कोरोना वायरस के बढ़ते प्रभाव को रोकने के लिए कलेक्टर तन्वी सुन्द्रियाल ने धारा-144 के अंतर्गत अतिरिक्त प्रतिबंधात्मक आदेश जारी किए हैं। यह प्रतिबंधात्मक आदेश अब 26 मार्च रात्रि 12 बजे तक लागू रहेंगे। प्रतिबंधात्मक आदेश के अंतर्गत जिले की सीमाओं में समस्त प्रकार के व्यवसायिक परिवहन, बस सेवाएं, ट्रांसपोर्ट, पीकअप वाहन, ऑटो रिक्शा आदि संचालन को प्रतिबंधित किया गया है। इस दौरान मेडिकल दुकान और हॉस्पिटल, सब्जी, किराना दुकान, दुध दुकान, पेट्रोल पंप, पीडीएस दुकान को छोड़कर शेष समस्त व्यवसायिक प्रतिष्ठान तथा दुकानें, खाने-पीने के रेस्टोरेंट पूर्णतः बंद रहेंगे। खंडवा के किसी भी रास्ते से किसी भी माध्यम से बाहर से आने वाले व्यक्तियों के प्रवेश को प्रतिबंधित किया गया है। आवश्यक होने पर अनुमति लेना पड़ेगी।

कोरोना का कहर: स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना पर की प्रेस कॉन्फ्रेंस..

मध्य प्रदेश हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश अजय कुमार मित्तल ने कोरोना वायरस के खतरे को बेहद गंभीरता से लेकर 23 और 24 मार्च को राज्य की सभी जिला अदालतों में अवकाश घोषित कर दिया है। इस दौरान सभी जजेस, कोर्ट स्टाफ, वकीलों व पक्षकारों को घर पर रहने की अपील की गई है। हाईकोर्ट की जबलपुर, इंदौर और ग्वालियर बेंच में पहले ही दो दिन का अवकाश घोषित किया जा चुका है। यह बढ़ाया भी जा सकता है। अधिवक्ता संघ एक सप्ताह वकीलों को कोर्ट कैम्पस से दूर अपने-अपने घरों में रहने की सलाह दे चुके हैं। सैनेटाईजर और मास्क यूज करने पर बल दिया गया है। रजिस्ट्रार जनरल राजेन्द्र कुमार वानी ने साफ किया है कि कोरोना के खतरे के समय में कोई भी केस वकील या पक्षकार की अनुपस्थिति में खारिज नहीं किया जाएग

कोरोना का कहर: कोरोना को हल्के में न लें, पड़ सकता है भारी, जानिए कैसे..

कोरोना का कहर: 5 बजते ही जनता कर्फ्यू में घंटी, शंख और तालियों की गूंज..

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर कहा है कि लॉकडाउन को अभी भी कई लोग गंभीरता से नहीं ले रहे हैं। कृपया करके अपने आप को बचाएं, अपने परिवार को बचाएं, निर्देशों का गंभीरता से पालन करें। राज्य सरकारों से मेरा अनुरोध है कि वो नियमों और कानूनों का पालन करवाएं। गौरतलब है कि जनता कर्फ्यू के दौरान इंदौर के राजवाड़ा और पाटनीपुरा में लोग सड़कों पर उतर आए थे।

लॉकडाउन को अभी भी कई लोग गंभीरता से नहीं ले रहे हैं। कृपया करके अपने आप को बचाएं, अपने परिवार को बचाएं, निर्देशों का गंभीरता से पालन करें। राज्य सरकारों से मेरा अनुरोध है कि वो नियमों और कानूनों का पालन करवाएं।https://twitter.com/narendramodi/status/1241946877139927040?s=19

उज्जैन में लॉकडाउन के बाद सीमाएं सील कर दी गई हैं।‌ सभी तरह के वाहनों को रोका जा रहा है। केवल जरूरी सामान लेकर आने वाले ट्रक आदि प्रवेश कर रहे हैं। इधर, शहर में भी लॉकडाउन का असर दिख रहा है। हालांकि जरूरी वस्तुओं की दुकानें खुली हुई हैं।‌ इनमें दवा, दूध,किराना आदि दुकानें शामिल हैं।

कोरोना का कहर: IPL 2020 के भविष्य का फैसला कॉन्फ्रेंस कॉल से होगा..

सोमवार सुबह रतलाम में सब्जी मंडी खुलते ही यहां लोगों की भीड़ लग गई। कोरोना वायरस संक्रमण के खतरे के बाद भी लोगों सब्जी लेने के लिए यहां जमा हो गए। बताया जा रहा है कि लोग ज्यादा मात्रा में सब्जी लेकर गए हैं।
दमोह कलेक्टर तरुण राठी ने रविवार के लॉक डाउन के बाद रविवार रात 11बजे पुनः आदेश जारी किया है जिसके तहत अब जिले में 25 मार्च तक लॉक डाउन रहेगा। इस दौरान केवल पेट्रोल पंप, मेडिकल जैसी आवश्यक सेवाएं संचालित रहेंगी। धारा 144 भी लागू की गई है जिसका सख्ती से पालन किया जाएगा।

कोरोना का कहर: स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना पर की प्रेस कॉन्फ्रेंस..

मध्य प्रदेश सभी जिलों में लॉकडाउन होने के कारण सोमवार सुबह भी जनता कर्फ्यू जैसा माहौल रहा। सड़कों पर कुछ लोग निकले हैं, लेकिन ज्यादातर पैदल ही थे, जो अपनी कॉलोनी या मोहल्ले में ही आवश्यक काम निकले थे। सब्जी और किराना की कुछ दुकानें खुली रहीं, जिन पर ग्राहक दिख पहुंचे। कुछ दो पहिया वाहन भी सड़कों नजर आए, लेकिन कहीं कोई रोक-टोक नहीं की जा रही है। ज्यादातर लोग घरों के अंदर ही हैं। सभी जगह मंदिर खुले, लेकिन सिर्फ पुजारियों ने ही पूजा की।

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply