Corona Virus के प्रकोप और उससे फैले डर के बीच साल 2013 का एक पुराना ट्वीट फिर से उभरा हौ और ट्विटर पर वायरल हो गया है। इस ट्वीट ने यूजर्स को हिलाकर रख गिया है। इस ट्वीट को मार्को नाम के एक ट्विटर अकाउंट से लिखा गया था जिसके यूजर का नाम @Marco_Acortes है। सात साल पहले किए गए इस ट्वीट में कोरोनावायरस के प्रकोप की भविष्यवाणी की गई थी। यूजर ने 3 जून 2013 को ट्वीट में लिखा था- “कोरोनावायरस …. यह आ रहा है”।

Advertisement

एयर इंडिया ने इटली, फ्रांस, जर्मनी समेत चार और देशों के लिए 30 अप्रैल तक रद्द की फ्लाइटें..

जैसा कि यह ट्वीट इंटरनेट पर फिर से उभरकर आया है, नेट यूजर्स सात साल पहले इस वायरस के आने की सही भविष्यवाणी करने वाले पोस्ट पर आश्चर्य जाहिर कर रहे हैं। इस पोस्ट को अब तक 57,000 से अधिक बार रीट्वीट किया गया है और एक लाख से अधिक लाइक्स मिल चुके हैं।

Corona virus….its coming

पोस्ट के वायरल होते ही, सोशल मीडिया पर तुरंत इस ट्वीट का जवाब देने के लिए यूजर्स उत्साहित हो गया क्योंकि कोरोना वायरस (COVID-19) खुद महामारी बन गया है। एक यूजर ने लिखा- आपने तारीख बदलने के लिए ट्विटर को हैक किया, सही है न?” एक अन्य यूजर ने लिखा- “मेरा मतलब है … अगर हम जानते हैं कि इसे आने में सात साल लगने वाले हैं, तो आपकी बात कौन सुनेगा… ओह रुको।” एक अन्य यूजर ने लिखा- उनका आखिरी ट्वीट साल 2016 में था, सरकार ने शायद उसे बंद कर दिया क्योंकि वह बहुत जोर से अपनी बात कह रहा था”।

5 ब्वॉयफ्रेंड वाली लड़की को चांटा मारने वाले ब्वॉयफ्रेंड पर भड़की नेहा धूपिया, अपशब्द कहने पर ट्रोेल हुईं..

एक यूजर ने कमेंट किया- हर कोई कमेंट में मजाक कर रहा है, जब मैं सचमुच सोच रहा हूं कि कोई 7 साल पहले कैसे ट्वीट करेगा। इससे पहले साल 1981 में डीन कोन्टोज के लिखे एक थ्रिलर उपन्यास, ‘द आइज ऑफ डार्कनेस’ में वुहान-400 नामक एक वायरस का उल्लेख किया गया था। उपन्यास में कहा गया था कि वायरस को एक प्रयोगशाला में एक हथियार के रूप में बनाया गया था।

कोरोना का कहर : कई राज्यों में स्कूल-कॉलेज समेत सभी शिक्षण संस्थान बंद, छात्रों को वापस लौटाया घर..

उपन्यास में जिक्र किया गया था कि चीन की एक मिलिट्री लैब में जैविक हथियारों के कार्यक्रम के हिस्से के रूप में एक वायरस बनाया गया है। प्रयोगशाला वुहान में स्थित है, इसलिए इसे वुहान-400 नाम दिया गया। बहरहाल, जो भी हो इस वायरस की वजह से अब तक दुनियाभर में करीब 1.30 लाख लोग संक्रमित हैं, जबकि 4,620 लोगों की मौत हो चुकी है।

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply