कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील के बाद देशभर में लोगों ने दीया और मोमबत्ती जलाकर एकजुटता का सबसे बड़ा संदेश दिया है. इस दौरान लोगों ने अपने घरों के बाहर और खिड़कियों पर दीये और मोमबत्तियां जलाईं. वहीं कुछ जगह पर आतिशबाजी भी हुई.

Advertisement

कोरोना का कहर: भारत में कोरोना का आंकड़ा 3700 पार, 103 की मौत..

दरअसल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपील की थी कि 5 अप्रैल रविवार को रात नौ बजे नौ मिनट के लिए लोग अपने घरों की लाइटें बंद करें और दरवाजे-खिड़की पर खड़े होकर दीया, मोमबत्ती जलाएं या फिर मोबाइल की फ्लैश लाइट-टॉर्च से रोशनी करें. इस शक्ति के जरिए हम ये संदेश देना चाहते हैं कि देशवासी एकजुट हैं. पीएम ने कहा कि एकजुटता के दमपर ही इस महामारी को मात दी जा सकती है.

पीएम मोदी की इस अपील के बाद पूरा देश पीएम मोदी के साथ दिखा. देश के कोने-कोने में लोगों ने रात 9 बजे 9 मिनट के लिए लाइटें बंद की और दीया-मोमबत्ती जलाए. इस दौरान पूरे देश ने कोरोना वायरस के खिलाफ जारी जंग में एकजुटता का संदेश दिया.

दिल्ली एयरपोर्ट पर रोके गए मरकज के 8 संदिग्ध, मलेशिया भागने की फिराक में थे..

पीएम मोदी की अपील के बाद कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक भारत के हर कोने में लोगों ने दीये जलाए. वहीं कोरोना के खिलाफ लड़ाई के लिए राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति ने भी दीए जलाए. बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा, गृहमंत्री अमित शाह, केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर, लोकसभा स्पीकर ओम बिरला सहित कई बीजेपी नेताओं ने दीप जलाकर एकजुटता का संदेश दिया.

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जनता कर्फ्यू का आह्वान किया था. पीएम मोदी ने अपील की थी कि 22 मार्च को जनता कर्फ्यू के दिन शाम को पांच बजे कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ रहे कोरोना कमांडोज के लिए थाली जरूर बजाएं. उस दौरान भी पूरे देश ने एकजुटता दिखाई थी और कोरोना कमांडोज के लिए ताली-थाली बजाई थी.

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply