कोरोना वायरस का कहर अब पूरी दुनिया में तांडव मचा रहा है. सबसे पहले इसकी शुरुआत चीन के वुहान शहर से हुई थी, जिसके बाद अबतक दुनिया में ये करीब 15 लाख लोगों को अपना शिकार बना चुका है. दुनिया में पहला कोरोना वायरस का केस आए 100 दिन पूरे हो गए हैं. भारत में सबसे पहला केस केरल में आया था, अब केरल के मुख्यमंत्री ने बताया है कि कैसे उन्होंने कोरोना के केस को रोका.

Advertisement

कोरोना से कई दशक पीछे चला जाएगा भारत..

केरल के मुख्यमंत्री पिनरई विजयन ने शुक्रवार सुबह ट्वीट कर जानकारी दी कि केरल ने कोरोना वायरस के आने के बाद से ही कई तरह के एक्शन लिए हैं. केरल के मुख्यमंत्री के मुताबिक, अभी राज्य में ये हालात हैं…

इसी ट्वीट में केरल के सीएम ने जानकारी दी कि किस तरह राज्य सरकार ने कोरोना और लॉकडाउन से आई परेशानी से निपटने का काम किया. केरल में अबतक ऐसे अस्पताल बनाए जा चुके हैं, जो सिर्फ कोरोना वायरस से पीड़ित लोगों की देखभाल कर रहे हैं. राज्य में 1251 कम्युनिटी किचन हैं, जिसमें 28 लाख से अधिक लोग खाना खा चुके हैं, तीन हजार से अधिक को शेल्टर किया गया है.

कोरोना से लड़ते हुए इंदौर में एक डॉक्टर की मौत, सीएम ने दी श्रद्धांजलि..

गौरतलब है कि भारत में कोरोना वायरस का पहला केस 30 जनवरी को रिपोर्ट हुआ था, जो कि केरल से ही था. तब वुहान में पढ़ने वाला एक छात्र वापस लौटा था, जो कोरोना पॉजिटिव पाया गया था, उसके बाद दो अन्य मामले केरल से ही थे.

इसके बाद से ही केरल की सरकार ने कोरोना पर युद्ध स्तर पर काम किया, जिसमें 20 हजार करोड़ का स्पेशल पैकेज, कई तरह की सुविधाएं शुरू करना शामिल रहा.

ट्रंप के थैंक्यू पर PM मोदी बोले- दोस्तों को करीब लाता है मुश्किल वक्त, कोरोना से जीतेंगे..

हालांकि, कोरोना वायरस के मामलों को भारत में सौ दिन नहीं हुए हैं, बल्कि दुनिया में पहला केस आए सौ दिन पूरे हुए हैं. चीन के वुहान में 31 दिसंबर को पहला कोरोना वायरस का मामला आया था, जिसके बाद से ही दुनिया में इसके फैलने की शुरुआत हुई.

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply