प्रदेश में कोरोना कर्फ्यू के सकारात्मक परिणाम सामने आने लगे हैं। नए संक्रमितों से अधिक मरीज स्वस्थ होकर अस्पतालों से घर जा रहे हैं। इसके कारण ऑक्सीजन वाले बिस्तर भी मिलना प्रारंभ हो गए हैं। संक्रमण को रोकने का स्थायी उपाय टीका लगवाना ही है। मरीजों के साथ स्वजन अस्‍पतालोंं में न जाएं क्योंकि वहां संक्रमण का खतरा अधिक है। यह बात गृहमंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने मीडिया से चर्चा में कही।

Advertisement

दो महीने में कोरोना ड्यूटी में लगे 726 शिक्षकों की मौत

डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि गुरुवार को प्रदेश में कोरोना संक्रमण के नए प्रकरण 12,868 हैं। जबकि स्वस्थ होकर अस्पताल से छुट्टी पाने वालों की संख्या 13,575 है। इसका मतलब यह है कि संक्रमण की रोकथाम के लिए जो कदम उठाए जा रहे हैं, वे सही दिशा में हैं। यही स्थिति बरकरार रही तो जल्द ही संक्रमण पर काबू पा लेंगे।

ठेले पर सिस्टम: नहीं मिला शव वाहन तो अंतिम संस्कार के लिए मां के शव को ठेले पर गांव ले गया बेटा

उन्होंने टीका लगवाने को जरूरी बताते हुए कहा कि यही स्थायी उपाय है। लॉकडाउन, मास्क पहनना, शारीरिक दूरी का पालन करना या सैनिटाइजर का उपयोग अस्थाई उपाय हैं, इसलिए न सिर्फ स्वयं टीका लगवाएं बल्कि आसपास वालों को भी प्रोत्साहित करें।

MP में शुरु हुई कोरोना योद्धा योजना परिवार को मिलेगी 50 लाख की सम्मान निधि

अस्पतालों में हो रही कोरोना संक्रमितों के स्वजन की भीड़ पर उन्होंने कहा कि इससे उनके संक्रमित होने का खतरा है। डॉक्टरों पर भरोसा रखें और यदि जरूरी हो तो एक से ज्यादा व्यक्ति न रहे। कांग्रेस के कोरोना के टीका पर सवाल उठाने को लेकर उन्होंने कहा कि वह पहले दिन से ही टीका पर भ्रम फैला रही है। जिस भी विषय पर राष्ट्र का मान ऊंचा होता हो और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का सम्मान होता हो, उस पर सवाल उठाना कांग्रेस ने अपना नैतिक दायित्व मान लिया है।

राज्यों के पास अभी भी 1 करोड़ खुराक, वैक्सीन की कमी के आरोपों को लेकर बोले हर्षवर्धन

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply