जेल में बंद दिल्ली दंगों के आरोपियों को तिहाड़ जेल में मारने की बड़ी साजिश का खुलासा हुआ है। पता चला है कि तिहाड़ जेल में बंद दिल्ली दंगों के एक पक्ष के आरोपियों को जेल में मर्करी (पारा) देकर मारने की साजिश थी।

Advertisement

नई दिल्ली: जेल में बंद दिल्ली दंगों के आरोपियों को तिहाड़ जेल में मारने की बड़ी साजिश का खुलासा हुआ है। दिल्ली पुलिस ने जेल में बंद दिल्ली दंगों के आरोपियों को जेल में मारने की बड़ी साजिश का पर्दाफाश किया है। पता चला है कि तिहाड़ जेल में बंद दिल्ली दंगों के एक पक्ष के आरोपियों को जेल में मर्करी (पारा) देकर मारने की साजिश थी। इस बात का खुलासे होते ही दिल्ली पुलिस के साथ जेल प्रशासन में भी हड़कंप मच गया है।

भीड़ इकट्ठी न हो इसलिए स्टेशनों पर प्लेटफॉर्म टिकट की कीमतों में 5 गुना बढ़ोतरी

दिल्ली पुलिस के सूत्रों के मुताबिक, उत्तरी पूर्वी दिल्ली के कई इलाकों में दंगों के दौरान मौजपुर पुलिया और शिव विहार पुलिया के पास हत्या करने वाले आरोपियों की हत्या की साजिश थी। जेल में शाहिद और जेल के बाहर से असलम ने रची साजिश रची थी। इसी साजिश के तहत असलम ने जेल में शाहिद को पारा पहुंचाया था। इसकी भनक लगने पर स्पेशल सेल ने टेक्निकल सर्विलांस रखना शुरू किया और साजिश को नाकाम किया। पुलिस ने 2 आरोपियों को गिरफ्तार किया है साथ ही तिहाड़ जेल से मर्करी जब्त की है।

दुर्लभ वन्य प्राणी पेंगोलिन बेचने की फिराक में बुलेरो में घूमते 2 आरोपी गिरफ्तार

जाने क्यों पड़ा इन बॉलीवुड हस्तियों के घर छापा

गौरतलब है कि उत्तर-पूर्वी दिल्ली में 23 से 25 फरवरी के दौरान भारी हिंसा हुई थी, जिसमें 52 लोग मारे गए थे और करीब 300 से अ‌धिक लोग घायल हो गए थे। कथित कट्टरपंथी संगठन पीएफआई पर सीएए के खिलाफ प्रदर्शनों के लिए धन मुहैया कराने के आरोप लगे थे। उत्तर पूर्वी दिल्ली में दंगाइयों ने जमकर तांडव किया था. दर्जनों घरों और दुकानों को आग के हवाले कर दिया गया। इन दंगो के मामले में कुल 755 एफआईआर दर्ज की गई थीं, इनमें सभी शिकायतें शामिल हैं।

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply