महाराष्ट्र के पालघर में संतों की हत्या पर विवाद अभी चल ही रहा था कि उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर से साधुओं की हत्या की वारदात सामने आ गई. आरोप है कि बुलंदशहर में एक शख्स ने मंदिर परिसर में दो साधुओं की धारदार हथियार से हत्या कर दी. बताया जा रहा है कि हत्या की इस वारदात को जब अंजाम दिया गया उस वक्त दोनों साधु सो रहे थे.

Advertisement

बुलंदशहर में अनूपशहर कोतवाली क्षेत्र के पगोना गांव में एक शिव मंदिर है. शिव मंदिर में रहने वाले 55 वर्षीय साधु जगनदास और 35 वर्षीय साधु सेवादास की सोमवार रात हत्या कर दी गई. मंगलवार सुबह जब ग्रामीण मंदिर पहुंचे तो साधुओं के शव खून से लथपथ मिले. गांववालों ने आरोपी को पकड़ लिया. इस सूचना के बाद पूरे इलाके में भारी भीड़ जमा हो गई. पुलिस भी मौके पर पहुंच गई.

OTT प्लेटफॉर्म पर रिलीज होगी अमिताभ की गुलाबो सिताबो? 3 मई के बाद तय होगा..

पुलिस ने बताया हत्या का कारण

पुलिस ने दोनों साधुओं की हत्या के आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है. आरोपी को नशा करने वाला बताया जा रहा है. वहीं, शुरुआती जांच के बाद पुलिस ने हत्या का कारण भी बताया है. बुलंदशहर के SSP संतोष कुमार सिंह ने घटना पर जानकारी देते हुये बताया, ‘आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है. शुरुआती जांच में पता चला है कि कुछ दिन पहले आरोपी ने साधुओं का चिमटा उठा लिया था, जिसे लेकर साधुओं ने उसे डांट फटकार लगा दी थी. इसके बाद आरोपी ने आज दोनों साधुओं की हत्या कर दी.’

इंदौर में हर दूसरा व्यक्ति सोमेटिक डिसऑर्डर से पीड़ित, जानिए क्या है ये?

आरोपी की गिरफ्तारी के साथ ही साधुओं के शवों को पोस्टमॉर्टम के लिये भेज दिया गया है. बता दें कि लॉकडाउन के दौरान पिछले दो हफ्तों के अंदर साधुओं की हत्या की ये दूसरी घटना है. बुलंदशहर से पहले 16 अप्रैल की रात महाराष्ट्र के पालघर में भीड़ ने दो साधु और उनके एक ड्राइवर की पीट-पीटकर हत्या कर दी थी. जिस वक्त इन साधुओं की हत्या की गई थी, उस वक्त वहां पुलिस भी मौजूद थी.

इस घटना के बाद पूरे देश में चर्चा हुई और संत समाज में काफी गुस्सा भी देखने को मिला. यहां तक कि यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने खुद महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे को फोन कर इस मसले पर बात की थी. लेकिन अब सीएम योगी के अपने राज्य में ही दो साधुओं की सोते वक्त हत्या कर दी गई है. सीएम योगी ने घटना पर रिपोर्ट तलब की है.

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply