चीन ने कहा- अमेरिका यूएन में अपना बकाया चुकता करें

    Share this News
    • अमेरिका ने कहा- चीन कोविड-19 पर अपनी गलती से दुनिया का ध्यान हटाना चाहता है
    • यूएन के पीसकीपिंग बजट और नियमित बजट में सबसे ज्यादा हिस्सेदारी अमेरिका ही देता है

    https://youtu.be/JHq3OhnqmRc

    चीन ने शुक्रवार को यूनाइटेड नेशंस के मेंबर देशों से अपना बकाया चुकाने को कहा है। उसने खासकर अमेरिका का नाम लेते हुए कि उस पर 2 अरब डॉलर ( 151 अरब 75 करोड़ रुपये) से ज्यादा का बकाया है।
    चीन ने यूएन के सेक्रेटरी जनरल ऑफिस की एक रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा,‘‘14 मई तक यूएन के नियमित बजट का 1.63 अरब डॉलर और पीसकीपिंग बजट का 2.14 अरब डॉलर बकाया है।’’ चीन ने कहा कि इसमें कई देशों के कई सालों का बकाया शामिल है। अमेरिका के ऊपर सबसे ज्यादा बकाया है। उसे नियमित बजट में 1.165 अरब और पीसकीपिंग बजट में 1.332 अरब डॉलर का भुगतान करना है। चीन के इस बयान पर अमेरिका ने पलटवार करते हुए कहा है कि चीन कोविड-19 पर अपनी लापरवाही से दुनिया का ध्यान हटाने के लिए तरह-तरह के हथकंडे अपना रहा है। यह भी उसी का हिस्सा है। अमेरिका ने कहा- हमने हाल ही में पीसकीपिंग बजट के लिए 72.6 करोड डॉलर दिए हैं और साल के अंत में बाकी भुगतान किया जाएगा। सुरक्षा बलों ने बड़गाम में आतंकी ठिकाने का पता लगाया


    यूएन के पीसकीपिंग मिशन में जब सदस्य देश फंड देने में देरी करते हैं तो इसका सीधा असर उन देशों पर पड़ता है, जहां के सैनिक यूएन के मिशन में तैनात होते हैं। ऐसे में यूएन उन देशों को सैनिकों की तैनाती के बदले में भुगतान नहीं कर पाता है। 11 मई की एक रिपोर्ट में सेक्रेटर जनरल एंतोनियो गुतेरस ने भी इस बारे में चेताया था। https://www.instagram.com/p/CAPmdF-B8dK/?igshid=1ewku3skboi07