केदारनाथ के कपाट बुधवार सुबह खुल गए. कोरोना महामारी के बीच यह पहला मौका है जब बिना भक्तों की भीड़ के कपाट खुले. बुधवार सुबह प्रातः 6 बजकर 10 मिनट पर भगवान श्री केदानाथ जी के कपाट 6 महीने के लिए संपूर्ण विश्व की सुख समृद्धि और आरोग्यता की कामना के साथ खोल दिए गए है. विश्व और राष्ट्र कल्याण के लिए भगवान केदारनाथ की प्रथम पूजा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम से संपन्न की गई. लॉकडाउन की वजह से आज (बुधवार) की पूजा में मुख्य पुजारी समेत मात्र 16 लोग ही शामिल हुए.

कैंसर से जूझ रहे हरफनमौला एक्टर इरफान खान का मुंबई में निधन, चार दिन पहले ही मां को खोया था

आमतौर पर कपाट खुलने के दिव्य पल का साक्षी बनने के लिए बड़ी संख्या में श्रद्धालु और साधु संत केदार धाम पहुंचते हैं. कोरोना महामारी के चलते प्रशासन ने भक्तों को मंदिर में दर्शन की अनुमति प्रशासन ने नहीं दी है. इस बार सीमित संख्या में कर्मचारी, पुजारी और वेदपाठी ही केदारनाथ धाम में मौजूद रहेंगे. मंदिर में केवल भोग, दोपहर का शृंगार और सांयकालीन आरती ही होगी. केदारनाथ के मंदिर को 10 क्विंटल फूलों से भव्य तरीके से सजाया गया था.

आज दोपहर पृथ्वी के करीब से गुजरेगा एवरेस्ट जितना बड़ा उल्कापिंड; पहले इसके धरती से टकराने की आशंका थीआज दोपहर पृथ्वी के करीब से गुजरेगा एवरेस्ट जितना बड़ा उल्कापिंड; पहले इसके धरती से टकराने की आशंका थी

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने भी श्रद्धालुओं को बाबा केदारनाथ के धाम के कपाट खुलने की शुभकामनाएं दी हैं. उन्होंने अपने संदेश में कहा, सभी श्रद्धालुओं को शुभकामनाएं. आपका मनोरथ पूर्ण हो, बाबा केदार का आशीष सभी पर बना रहे, ऐसी मैं भगवान केदारनाथ से कामना करता हूं. कोरोना महामारी के इस वैश्विक संकट में हम बाबा केदार की आराधना घर में रह कर ही करें, सोशल डिस्टेंसिंग का अवश्य अनुपालन करें, घर में रहें, सुरक्षित रहें.

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply