आधुनिक सुविधाएं मिलेंगी

शिवराज सरकार ने भेजा था प्रस्ताव, केंद्र ने दी मंजुरी
Advertisement

भोपाल: मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में स्थित हबीबगंज रेलवे स्टेशन का नाम बदल दिया गया है.अब ये स्टेशन रानी कमलापति रेलवे स्टेशन के नाम से जाना जाएगा. शिवराज सरकार ने इसके लिए केंद्र सरकार को इसके लिए एक प्रस्ताव भेजा था, जिसे केंद्र ने मजूर कर लिया हैं।
दरअसल, प्रधानमंत्री मोदी 15 नवंबर को आधुनिक सुविधाओं से सज्जित हबीबगंज के वर्ल्ड क्लास रेलवे स्टेशन का उद्घाटन करने वाले हैं. इससे पहले स्टेशन का नाम बदल दिया गया है।​ नए बने इस रेलवे स्टेशन पर अब यात्रियों को शॉपिंग कॉम्प्लेक्स, हॉस्पिटल, मॉल, स्मार्ट पार्किंग, हाई रानी कमलापति रेलवे स्टेशनसिक्योरिटी समेत कई आधुनिक सुविधाएं मिलेंगी।

 

हबीबगंज रेलवे स्टेशन
गौरतलब है, कि इससे पहले बीजेपी के कुछ प्रमुख नेताओं की ओर से हबीबगंज स्टेशन का नाम बदलकर पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेई के नाम पर किए जाने की मांग उठी थी. बीजेपी के पूर्व मंत्री जयभान सिंह पवैया और पूर्व राज्यसभा सांसद प्रभात झा के अलावा सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने भी नाम बदलने की मांग की थी. हबीबगंज स्टेशन का नाम तो बदला जा रहा है लेकिन वह स्व.अटल बिहारी वाजपेई पर ना होकर गोंड रानी, रानी कमलापति पर किया जाएगा. इसके पीछे वजह आदिवासियों को लुभाने की भी कोशिश हो रही है।
जाने रानी कमलापति के बारे में 
वहीं 16वीं सदी में भोपाल क्षेत्र गोंड शासकों के अधीन था.ऐसा माना जाता है कि गोंड राजा सूरज सिंह के पुत्र निजामशाह से रानी कमलापति का विवाह हुआ था. रानी कमलापति ने अपनी पूरे जीवन में बहादुरी से और वीरता से आक्रमणकारियों का सामना किया था. इसलिए हबीबगंज रेलवे स्टेशन का नाम गोंड रानी कमलापति रेलवे स्टेशन के रूप में किए जाने का निर्णय लिया है।
Advertisement
Advertisement

Leave a Reply