भोपाल : सीने के आर-पार हुआ 10 इंज का खंजर एम्स के डॉक्टर ने की सर्जरी,घर के बाहर हुआ था हमला

भोपाल : सीने के आर-पार हुआ 10 इंज का खंजर एम्स के डॉक्टर ने की सर्जरी,घर के बाहर हुआ था हमला

Share this News

एम्स के डॉक्टर ने बचाई युवक की जान सीने में आर-पार हुआ था 10 इंच का खंजर

भोपाल स्थित एम्स हॉस्पिटल के डॉक्टरों ने ऑपरेशन कर युवक की जान बचा ली। युवक के सीने में करीब 10 इंच का खंजर आर-पार हो गया था। उसे गंभीर अवस्था में एम्स ले लाया गया। यहां 30 मिनट के ऑपरेशन के बाद चाकू बाहर निकाल दिया। अब युवक की हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है।

इस तरह सीने में आर-पार हो गया था खंजर। - Dainik Bhaskar
इस तरह सीने में आर-पार हो गया था खंजर।

युवक का नाम योगेश पेंटर है। वह पिपलिया पेंदे खां में रहता है। मंगलवार देर रात वह घर के बाहर खड़ा था, तभी एक लड़के को किसी बात पर डांट दिया। लड़के ने उसे चाकू मार दिया, जो सीने के बाएं की तरफ आर-पार हो गया।

https://www.youtube.com/watch?v=6gdsEMk_I_k

गंभीर अवस्था में एम्स ले गए परिजन
खंजर लगने के बाद योगेश को परिजन एम्स लेकर पहुंचे थे। डॉक्टरों ने बिना देर किए हुए सर्जरी करने का फैसला किया। करीब 30 मिनट तक चली सर्जरी में सीने में धंसा खंजर निकाल लिया गया। डॉक्टरों की मानें तो मरीज की किस्मत अच्छी थी कि धारदार चाकू उसके सीने में आर-पार होने के बावजूद हार्ट को नुकसान नहीं पहुंचा। योगेश को कुछ दिन डॉक्टरों की निगरानी में ही रखा जाएगा।

ग्वालियर: तलवार से केक काटकर गोली चलाना पड़ा भारी,पुलिस ने दबोचा

सीने में आर-पार हुए इस चाकू को डॉक्टरों ने बाहर निकाला।
सीने में आर-पार हुए इस चाकू को डॉक्टरों ने बाहर निकाला।

सर्जरी करने वाली टीम में डॉ. विक्रम बट्टी, डॉ. मो. यूनुस, डॉ. भूपेश्वरी पटेल, डॉ. राहुल दुबेपुरिया और डॉ. शैलेश शामिल थे। इधर, पुलिस ने आरोपी के खिलाफ केस दर्ज किया है। पुलिस के अनुसार युवक योगेश की हालत भी खतरे से बाहर है।

हमसे इंस्टाग्राम पर जुड़े

news source :- dainik bhaskar

CBSE 10th क्लास के सैंपल पेपर जारी,ऐसे करें डाउनलोड Bhopal: आशा कार्यकर्ता से 7000 की रिश्वत लेते हुए बीसीएम गिरफ्तार Vaidik Watch: उज्जैन में लगेगी भारत की पहली वैदिक घड़ी, यहां होगी स्थापित मशहूर रेडियो अनाउंसर अमीन सयानी का आज वास्तव में निधन हो गया है। आज 91 वर्षीय अमीन सयानी का दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया है। इस बात की पुष्टि अनेक पुत्र राजिल सयानी ने की है। अब बोर्ड परीक्षाओं का आयोजन वर्ष में दो बार किया जाएगा।