क्राइम ब्रांच के सामने गोली चलाने वाले अश्विन शर्मा को एक दिन में मिली जमानत
क्राइम ब्रांच के सामने गोली चलाने वाले अश्विन शर्मा को एक दिन में मिली जमानत
Share this News

टीटीनगर टीआई चैन सिंह ने बताया कि क्राइम ब्रांच के सामने गोली चलाने वाले अश्विन शर्मा को फिलहाल जमानत मिली है,उसके ऑर्डर देखकर आगे की रूपरेखा बनाएंगे।

 

टीटीनगर इलाके में वसूली और धोखाधड़ी के आरोपित सोनू पचौरी को बदमाश को छुड़ाने और पीड़ित पर क्राइम ब्रांच के सामने गोली चलाने और पुलिस की शासकीय कार्य में बाधा की कहानी कोर्ट के सामने कमजोर नजर आइ है। कोर्ट में जब इस मामले को लेकर आरोपित अश्विन शर्मा की जमानत पर चर्चा की तो उनके वकील की ओर से जो साक्ष्य पेश किए तो उसमें पुलिस की कहानी ढुलमुल निकली।

BJP विधायक के बेटे पर 10 हजार रुपए का इनाम घोषित,आदिवासी शख्स को मारी थी गोली

पहला तो पुलिस में शिकायत करने वाले पीडित की मेडिकल रिपोर्ट पेश की गई, उसमें अल्कोहल की होने की पुष्टि थी और कुछ सीसीटीवी पेश किए गए। उस आधार पर अश्विन शर्मा को जमानत कोर्ट ने स्वीकार कर ली गई। इसमें जो गोली चलाने की बात बताई गई थी, उसमें वह बचाव में हवा में गोली चलाते नजर आ रहे थे। टीटीनगर टीआई चैन सिंह ने बताया कि जमानत मिली है, उसके ऑर्डर देखकर आगे की रूपरेखा बनाएंगे

नशे में थे फरियादी और सीसीटीवी के कारण जमानत मिली

अखिलेश श्रीवास्तव ने बताया कि जिनकी शिकायत पर अश्विन शर्मा पर पुलिस ने हत्या के प्रयास की एफआइआर दर्ज की थी,उनका पुलिस ने मेडिकल कराया था, उसमें उनके नशे में रहने की बात सामने आइ थी। उसके अलावा पुलिस वालों के पास हथियार के साथ पहुंचे और मारपीट शुरू करने की बात सीसीटीवी नजर आई। क्राइम ब्रांच के पुलिस कर्मी जुबेर की शिकायत पर शासकीय कार्य में बाधा की एफआइआर की गई तो उसने बताया गया कि वह खुद ड्यूटी पर नहीं थे। इन आधार पर अश्विन शर्मा को जमानत मिली है।

कंटेनर में छुपाकर केरल ले जा रही 55 भैंस जब्त,यातायात पुलिस की कार्रवाई

हम बता दें कि पुलिस ने सेव हेरिटेज सिटी बावाडिया कलां निवासी देवेश विदुआ ने शिकायत की थी, अड़ीबाजी और धोखाधड़ी करने वाले आरोपित सोनू पचौरी का वह पीछा कर रहे थे, उनके साथ क्राइम ब्रांच भी थी। इस पर सोनू पचौरी प्लेटिनम प्लाजा में गया और अश्विन शर्मा अपने साथियों के साथ खड़े थे और उन्होंने बंदूक से फायर किया , इसमें क्राइम ब्रांच के साथ झूमाझटकी की गई। इस पर अश्विन शर्मा और उनके साथियों पर हत्या का प्रयास और शासकीय कार्य में बाधा के साथ अन्य धाराओं में एफआइआर दर्ज कर उनको गिरफ्तार किया गया था। इस पर कोर्ट में जमानत के लिए आवेदन लगा तो अश्विन शर्मा की ओर से एडवोकेट अखिलेश श्रीवास्तव ने बचाव कई साक्ष्य पेश किए।

Download our App Now