अखिलेश यादव का बड़ा ऐलान- इस बार विधानसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे
Share this News

अखिलेश यादव ने ऐलान कर दिया है कि वे इस बार विधानसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे.

सपा सुप्रीमो और यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav will not contesting Uttar Pradesh Assembly Election 2022)  ने एक बड़ा ऐलान कर सबको चौंका दिया है. सोमवार को उन्होंने ऐलान कर दिया कि वे इस बार विधानसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे.अखिलेश यादव ने आगे कहा कि वो छोटी पाार्टियों से गठबंधन कर रहे हैं और राष्ट्रीय लोक दल के साथ गठबंधन तय है बस सीटों के बंटवारे पर अभी बात करनी बाकी है.

 

चुनाव में चाचा शिवपाल यादव की प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया (पीएसपीएल) को साथ लेने की संभावना पर अखिलेश यादव ने कहा, “मुझे इसमें कोई समस्या नहीं है. उन्हें और उनके लोगों को उचित सम्मान दिया जाएगा.”

कमलनाथ ने भाजपा पर लगाया बड़ा आरोप कहा भाजपा ने किया सत्ता का दुरुपयोग

सीएम योगी ने अखिलेश पर साधा निशाना

उधर अखिलेश यादव के जिन्ना वाले बयान पर सियासत गरमा गई है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव पर पलटवार किया है. योगी ने कहा कि जिन्ना से पटेल की तुलना शर्मनाक है. अखिलेश यादव को जनता से माफी मांगनी चाहिए. विभाजनकारी मानसिकता जनता स्वीकार नहीं करेगी. मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष का बयान अत्यंत शर्मनाक है. सरदार वल्लभ भाई पटेल भारत की एकता और अखंडता के शिल्पी हैं.

योगी ने कहा कि ये तालिबानी मानसिकता है. हर वक्त तोड़ने का प्रयास करती है. पहले जाति और अन्य वादों के नाम पर तोड़ने की प्रवृत्ति, जब वो अपने मंसूबों पर सफल नहीं हो रहे हैं, तो महापुरुषों पर लांछन लगा कर पूरे के पूरे समाज को अपमानित करने का प्रयास कर रहे हैं.

आरक्षण के चलते फिर टला नगरीय निकाय चुनाव,अब सुप्रीम कोर्ट में होगा फैसला

शिवपाल भी सपा में वापसी के लिए तैयार

बता दें कि प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के मुखिया शिवपाल यादव ने कहा कि समाजवादी पार्टी को ऊंचाई तक पहुंचाने में 75 फीसदी योगदान नेताजी मुलायम सिंह यादव का है तो 25 फीसदी उनका है. अखिलेश यादव पार्टी में उनका 25 फीसदी हक दें तो वह पार्टी में वापसी को तैयार हैं.

शिवपाल यादव ने रविवार को गाजियाबाद में कहा कि समाजवादी पार्टी को ऊंचाइयों तक पहुंचने में उनका काफी योगदान रहा है. जब उन्हें उनका हक नहीं मिला तो उन्हें पार्टी से अलग होना पड़ा था. अगर उन्हें अपना हक वापस मिले तो वह आज भी पार्टी में वापसी को तैयार हैं. शिवपाल ने चुनाव के संबंध मे कहा कि स्थानीय दलों के साथ एक बड़ी राष्ट्रीय पार्टी से गठबंधन करेंगे.

सरकार को खुली चुनौती,फसल बेचने संसद तक जाएगें किसान : राकेश टिकैत

अखिलेश ने योगी पर साधा निशाना

इससे पहले अखिलेश ने सीएम योगी पर जमकर निशाना साधा. अखिलेश ने कहा कि बीजेपी के दो सबसे प्रिय काम हैं. पहला विभन्नि स्थानों के नाम बदलना और दूसरा शौचालय बनवाना. उन्होंने कहा कि जो समाजवादी पूर्वांचल एक्सप्रेस वे सपा सरकार में बना रहा था, मुख्यमंत्री ने इसका नाम बदल दिया. इसी तरह सपा सरकार में न्यूयॉर्क पुलिस की तर्ज पर उत्तर प्रदेश पुलिस की हेल्पलाइन सेवा ‘यूपी 100’ शुरु की. यह ऐसी सेवा थी कि अगर गांव से भी कोई फोन करे तो पुलिस उसकी मदद करने पहुंचती थी. मगर मुख्यमंत्री योगी ने इसका भी नाम बदल कर ‘डायल 112’ कर दिया.

उन्होंने योगी सरकार पर शिक्षा, रोजगार और स्वास्थ्य सहित अन्य सभी क्षेत्रों में कोई काम नहीं करने का आरोप लगाते हुये कहा कि मंहगाई की अतिरक्ति मार ने आम आदमी का जीना दूभर कर दिया है. पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि पेट्रोल डीजल महंगा करके निजी कंपनियों का मुनाफा करवाया जा रहा है. अखिलेश ने कहा,’जब जब समाजवादी विजय रथ चला है तब तब सपा की सरकार बनी है और अब तो पेट्रोल डीजल महंगा करके सरकार भी इशारा कर रही है कि आप साइकिल चलाइए.

हमसे व्हाट्सएप ग्रुप पर जुड़े