वेक्सीन का फार्स्ट डोज बंद

CMHO ने कहा- वैक्सीन का फार्स्ट डोज लगना बंद,तर्क- लोग तीसरा डोज भी लगवा रहे
Advertisement

मध्यप्रदेश सरकार कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर जोर दे रही ही है वहीं दुसरी और स्वास्थ्य विभाग के अफसर ने अजीब फरमान जारी किया है जिसके बाद अब वेक्सीन का फार्स्ट डोज लगाने के लिए आपको SDM से परमिशन लेना जरुरी होगी आपकों बतां दें आगर मालवा जिले के स्वास्थ्य विभाग के अफसर ने अजीब फरमान जारी किया है। जिले के सीएमएचओ एसएस मालवीय ने आदेश निकाला है कि जिले में अब किसी को भी कोरोना वैक्सीन का पहला डोज नहीं लगाया जाएगा। इसे प्रतिबंधित कर दिया गया है। इसके लिए अब एसडीएम की परमिशन जरूरी होगी। यही नहीं, आदेश नहीं मानने पर कार्रवाई भी की जाएगी। उनका तर्क है कि कई लोग ऐसे भी हैं, जिन्होंने तीसरा डोज भी लगवा लिया है, इसलिए कन्फर्म करके ही टीका लगाएंगे।

वेक्सीन का फार्स्ट डोज बंद
वेक्सीन का फार्स्ट डोज बंद

शिवराज का बड़ा बयान जनवरी में आ सकती है तीसरी लहर,मंत्रियों को जमीनी स्तर पर कार्य पर लगाया

मालवीय ने 7 दिसंबर को यह आदेश निकाला है। तत्काल प्रभाव से आदेश लागू करने के लिए भी कहा गया है। आदेश के मुताबिक जिले में कोविड टीकाकरण अभियान के तहत वैक्सीन का पहला डोज प्रतिबंधित किया जाता है। एसडीएम से सहमति पत्र लेना होगा, उसके बाद ही डोज लगाया जा सकेगा। बिना अनुमति के पहला डोज लगाया जाता है, तो एएनएम और वैरीफाई करने वाले से प्रति डोज के हिसाब से रिकवरी भी की जाएगी।

जानकारी के अनुसार जिले में लक्ष्य से ज्यादा लोगों का वैक्सीनेशन किया गया है। पहले डोज के लिए करीब 4 लाख 24 हजार डोज का लक्ष्य था। वहीं 4 लाख 38 हजार डोज लगाए जा चुके हैं। उनका तर्क है कि ज्यादा वैक्सीनेशन के पीछे कहीं न कहीं लोगों द्वारा तीसरा डोज लगवाना है। ऐसे में जांचना जरूरी है कि उन्हें पहले टीका लगा तो नहीं है।

हमसे व्हाट्सएप ग्रुप पर जुड़े

खेल की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

रोजगार की खबरें पढ़ने के लिए करें क्लिक

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply