कलेक्टर अविनाश लवानिया के आदेश पर गुरुवार को जिले के पेट्रोल पंप की जांच की गई

Advertisement

भोपाल के 7 पेट्रोल पंप में से 5 में पीयूसी यानी प्रदूषण जांच केंद्र स्थापित नहीं पाए जाने पर संचालकों को नोटिस दिए गए हैं। गुरुवार को जिला प्रशासन की टीम इन पंपों पर जांच करने के लिए पहुंची थी। अफसरों ने पेट्रोल-डीजल के स्टॉक की जांच भी की।

पेट्रोल पंप पर प्रदूषण जांच केंद्र स्थापित नहीं करने पर कारण बताओ नोटिस दिए गए।

कलेक्टर अविनाश लवानिया के आदेश पर गुरुवार को जिले के पेट्रोल पंप की जांच की गई और सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के बाद भी पेट्रोल पंप पर प्रदूषण जांच केंद्र स्थापित नहीं करने पर कारण बताओ नोटिस दिए गए।

जब शहडोल प्रभारी मंत्री रामखेलावन पटेल ने गाड़ी से उतर कर कटवाया खुद का चालान

इन पंपों की जांच

खाद्य विभाग के अमले ने एलएन साहू फ्यूल सर्विस बीपीसीएल पिपलिया जहारपीर, मेसर्स यूकेटी इंटरप्राइजेस बीपीसीएल मंडीदीप रोड, मेसर्स मारूती नंदन ऑटो सर्विस बीपीसीएल खजूरीकलां बायपास, मेसर्स प्रभात सेल्स एंड सर्विस स्टेशन बीपीसीएल अशोका गार्डन, मेसर्स खजूरी हाईवे सर्विस स्टेशन आईओसीएल खजूरी सड़क, मेसर्स करतार फिल एंड फ्लाय आईओसीएल ग्राम फंदा एवं मेसर्स तत्पर सर्विस स्टेशन आईओसीएल बरखेड़ा की जांच की। इनमें से फंदा व बरखेड़ा के पंप पर ही पीयूसी स्थापित पाए गए। बाकी में नहीं थे।

MP-MLA के क्रिमिनल केस वापस नहीं ले सकेंगी राज्य सरकारें,पुराने मामले भी दोबारा खुलेंगे

इस कारण कारण संबंधितों के विरुद्ध मोटर स्पिरिट और उच्च वेग डीजल प्रदाय तथा वितरण का विनियमन और अनाचार निवारण आदेश 2005 के प्रावधानों के अनुरूप एवं आवश्यक वस्तु अधिनियम 1955 के प्रावधानों के तहत ऑयल कंपनी से अनुज्ञप्ति निरस्त करवाने तथा अभियोजन की कार्रवाई के लिए कारण बताओ नोटिस जारी किए। वहीं प्रकरण कलेक्टर कोर्ट में प्रस्तुत किए गए।

भोपाल के इन इलाके में 90% जर्जर बिल्डिंग यहां कभी भी हो सकता बड़ा हादसा,जबकि 2 साल पहले हो चुका है सर्वे

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply