आलमी तबलीगी इस्तिमा होगा चार दिनी,पहली बार कोई विदेशी जमात नहीं होंगी शामिल

आलमी तबलीगी इस्तिमा होगा चार दिनी,पहली बार कोई विदेशी जमात नहीं होंगी शामिल

Share this News

18 नवंबर से शुरू होकर 21 नवंबर को सामूहिक दुआ के साथ होगा आलमी तबलीगी इस्तिमा का समापन

कोरोना संक्रमण के कारण लगातार दो साल टल गए आलमी तबलीगी इस्तिमा 18 नवंबर से शुरू होकर 21 नवंबर को सामूहिक दुआ के साथ समाप्त होगा। हालांकि यह पहली बार है जब आलमी तबलीगी इस्तिमा में कोई विदेशी जमात शामिल नहीं होगी।

आलमी तबलीगी इस्तिमा कमेटी के अतीक उल इस्लाम ने बताया कि वर्ष 2020 कोविड-19 की गंभीरता को देखते हुए धार्मिक समागम का आयोजन नहीं करने का निर्णय लिया था,उन्होंने कहा कि अब हालत सामान्य हो चुके हैं। जिसके चलते दुनिया भर की अकीदत वाले इस आयोजन को आकार देने की तैयारी की जा रही है। ईटखेड़ी में होने वाले इस कार्यक्रम की रूपरेखा बनाना शुरू कर दी गई है।

भोपाल मे 1300 पुलिसकर्मियों ने देर रात बदमाशों के घर में दी दबिश,6 घंटे में 726 वारंट तामील कराए

आयोजन स्थल पर जरूरी कामों के लिए पीडब्ल्यूडी,पीएचई,बिजली कंपनी,आदि को सूचित कर दिया गया है। जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन ने भी आयोजन को लेकर व्यवस्था पर काम करना शुरू कर दिया। अतीक उल इस्लाम ने बताया कि 4 दिन के इस आयोजन में देश भर की हजारों जमाती शामिल होगी,धर्म सभा को संबोधित करने के लिए देश की कई बड़े उलेमा हजरात तशरीफ लाएंगे।

विदेशी जमात नहीं होंगी शामिल

आलमी तबलीगी इस्तिमा के 75 वर्ष में यह पहला मौका है जब इस आयोजन में भारत के अलावा अन्य देश की जमात शामिल नहीं होगी। दुनिया भर में फैली बीमारी और उनके खतरों से बचाव के लिए इस्तिमा कमेटी के जिम्मेदारों ने यह फैसला लिया है

मुख्यमंत्री ने एसपी के बाद झाबुआ कलेक्टर को भी हटाया,रजनी सिंह झाबुआ की नई कलेक्टर

75 साल पहले 13 लोगों से शुरू हुआ तब्लीगी इज्तिमा

दुनिया के सबसे बड़े धार्मिक समागम में तीसरा स्थान रखने वाला भोपाल का तब्लीगी इज्तिमा वर्ष 1947 में मस्जिद शकूर खान मैं महज 13 लोगों की शिरकत से शुरू हुआ था। इसके अगले भर taj-ul-masajid के तैयार हो जाने के बाद से इस आयोजन को यहा शिफ्ट कर दिया गया था लंबे समय तक यहां होने वाले आयोजन में बढ़ती जामातियों की तादाद देखकर बाद में तब्लीगी इज्तिमा का आयोजन ईटखेड़ी में किया जाने लगा।

विचारोदय न्यूज़ को डाउनलोड करें 

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Bhopal: आशा कार्यकर्ता से 7000 की रिश्वत लेते हुए बीसीएम गिरफ्तार Vaidik Watch: उज्जैन में लगेगी भारत की पहली वैदिक घड़ी, यहां होगी स्थापित मशहूर रेडियो अनाउंसर अमीन सयानी का आज वास्तव में निधन हो गया है। आज 91 वर्षीय अमीन सयानी का दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया है। इस बात की पुष्टि अनेक पुत्र राजिल सयानी ने की है। अब बोर्ड परीक्षाओं का आयोजन वर्ष में दो बार किया जाएगा। इंदौर में युवाओं ने कलेक्टर कार्यालय को घेरा..