पाकिस्तान के प्रधानमंत्री

Advertisement
इमरान खान ने मंगलवार को पहली बार पुलवामा में हुए आतंकी हमले पर चुप्पी तोड़ी। हमले के बारे में बात करते हुए पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने कहा कि इससे पाकिस्तान को कुछ हासिल नहीं होने वाला था, ऐसे में वह क्यों इस तरह की हरकत करता? साथ ही अपने देश को आतंकवाद का एक बड़ा शिकार बताते हुए इमरान ने कहा कि भारत ने बगैर किसी सबूत के पाकिस्तान के ऊपर आरोप लगाए हैं।

अभी तक इस हमले पर अपनी चुप्पी की वजह बताते हुए पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने कहा, ‘सऊदी अरब के प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान पाकिस्तान के दौरे पर थे, इसलिए पुलवामा हमले के आरोप का पहले जवाब नहीं दिया। पाकिस्तान प्रिंस के दौरे के वक्त ऐसी हरकत क्यों करेगा जिससे कि स्थिति खराब हो, हम खुद 15 साल से आतंकवाद से लड़ रहे हैं।’ इमरान ने कहा कि पुलवामा हमले में पाकिस्तान का कोई भी शख्स दोषी पाया जाता है तो हम कार्रवाई के लिए तैयार हैं। उन्होंने कह कि भारत हमेशा आतंकवाद पर बातचीत करने को कहता है, हम आतंकवाद पर बातचीत करने को तैयार हैं।


आपको बता दें कि 14 फरवरी को पुलवामा में हुए आतंकी हमलों में CRPF के 40 जवान शहीद हो गए थे। इन हमलों की जिम्मेदारी पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ली थी। इन हमलों के मास्टरमाइंड अब्दुल रशीद गाजी को भारतीय सुरक्षाबलों ने सोमवार को एक मुठभेड़ में ढेर कर दिया था। उसके साथ 2 और आतंकी मारे गए थे.!

जिनमें पाकिस्तान निवासी कामरान भी शामिल था। कामरान जैश-ए-मोहम्मद का एक टॉप कमांडर था। हालांकि इस ऑपरेशन में भारतीय सेना के एक मेजर समेत कुल 5 सैनिक शहीद हो गए थे।.

@vicharodaya

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply