महराजपुर तहसीलदार सुनील वर्मा से मिलने पहुंचे किसान।
महराजपुर तहसीलदार सुनील वर्मा से मिलने पहुंचे किसान।

मिले 2 हजार, नोटिस थमा दिया 10 हजार का किसान बोले किश्तों में मिली राशि, एक साथ कैसे जमा करें
Advertisement

केंद्र सरकार द्वारा किसानों को दी जाने वाली पीएम किसान सम्मान निधि की वसूली करने का मामला सामने आया है। इसमें अधिकारियों द्वारा अपात्र किसानों को नोटिस देकर उनसे रकम वापस जमा कराने को कहा गया है। समय सीमा में पैसे नहीं जमा करने पर कुर्की की चेतावनी दी गई है। वहीं, किसानों का आरोप है कि जब वह पहले ही अपात्र थे तो फिर उन्हें सम्मान निधि क्यों दी गई। तब क्यों नहीं, इसकी जांच की गई। ताजा मामला छतरपुर जिले की महराजपुर तहसील का है। यहां बुधवार को दर्जनों किसान अपनी शिकायत लेकर तहसील कार्यालय पहुंचे और अपनी पीड़ा बताई।

विडियो खबर देखें

मिले 2 हजार, नोटिस थमा दिया 10 हजार का
ग्राम बेदार निवासी किसान गोवर्धन का कहना है कि उन्हें अब तक सिर्फ 2 हजार रुपए ही बैंक खाते में मिले हैं, जबकि वसूली का नोटिस 10 हजार रुपए का थमा दिया गया है। ऐसे में वह पैसा कहां से चुकाएंगे।

मध्य प्रदेश के सतना में ट्रक और टैंकर की भिड़ंत, घटनास्थल पर ही ड्राइवर की मौत

किश्तों में मिली राशि, एक साथ कैसे जमा करें
ग्राम खिरी निवासी किसान ब्रजेश तिवारी का कहना है कि उनके माता-पिता दोनों को अलग-अलग खेती की जमीन (बंदी) के हिसाब से उन्हें पैसे किश्तों के जरिए दिए गए थे। अब एक मुश्त पैसा उनकी माता के नाम से नोटिस जारी कर मांगा जा रहा है। उनका कहना है कि हम गरीब किसान हैं, ऐसे में पैसे कहां से दें।

जो लोग अपात्र हैं, उनसे हो रही वसूली
महराजपुर तहसीलदार सुनील वर्मा का कहना है कि शासन से हम अपात्र किसानों की सूची उपलब्ध कराई है। जिसके तहत ही किसानों को वसूली के नोटिस दिए जा रहे हैं। वहीं, जब उनसे पूछा गया कि अपात्र को पात्र किसने बनाया तो उन्होंने जवाब में कहा कि लोगों ने घोषणा पत्र खुद भरा था, जिसमे उल्लेख था कि अपात्र होने पर वसूली की जाएगी। 2 हजार मिली राशि के बदले 10 हजार की वसूली के नोटिस पर उन्होंने कहा कि अगर ऐसा है तो जांचकर वैधानिक कार्यवाही की जाएगी।

किसानों को मिला नोटिस।
Advertisement
Advertisement

Leave a Reply