कमलनाथ ने सीएम की कुर्सी संभालते ही विश्वविद्यालय में पिछले 12 साल में हुई नियुक्तियों का रिकॉर्ड मांगा था.

भोपाल स्थित माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विश्वविद्यालय में हुए घोटालों की जांच के लिए समिति बना दी गई है. तीन सदस्यों की इस समिति में ACS जनसंपर्क एम. गोपाल रेड्डी, सीएम के OSD भूपेन्द्र गुप्ता और कांग्रेस नेता संदीप दीक्षित होंगे. समिति 15 दिन में शासन को रिपोर्ट सौंपेगी.मध्य प्रदेश में नई सरकार आते ही पत्रकारिता विवि में बदलाव का दौर शुरू हो गया था. 4 जनवरी को वीसी जगदीश उपासने ने अपना इस्तीफा दे दिया था. उनकी जगह जनसंपर्क आयुक्त पी. नरहरि को विवि का प्रभारी कुलपति का अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया है
जगदीश उपासने के बाद विश्व विद्यालय के रैक्टर लाजपत आहूजा और फिर कुलसचिव संजय द्विवेदी ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था. द्विवेदी की जगह दीपेन्द्र बघेल को कार्यवाहक कुलसचिव बनाया गया था. अनुमान है कि करीब एक महीने के अंदर नए कुलपति की नियुक्ति हो जाएगी


कमलनाथ ने सीएम की कुर्सी संभालते ही विश्व विद्यालय में पिछले 12 साल में हुई नियुक्तियों का रिकॉर्ड मांगा था. दरअसल विश्वविद्यालय के पदों पर संघ समर्थित लोगों का दबदबा था, इसलिए विश्वविद्यालय कांग्रेस सरकार के रडार पर है. सरकार बदलते ही विश्वविद्यालय में बदलाव तय माना जा रहा था. विश्वविद्यालय में 2010 से लेकर 2016 तक जो नियुक्तियां की गई थीं उनमें गड़बड़ी की शिकायतें आईं थीं. मामले की शिकायत लोकायुक्त में भी हुई थी. विधानसभा में भी इस पर सवाल उठा था

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here