14 फरवरी को पुलवामा हमले के ठीक एक महीने बाद तनाव के बीच गुरुवार यानि 14 मार्च को भारत और पाकिस्तान पहली बार बातचीत की मेज पर होंगे. बीते दो दशकों में दोनों देशों के बीच संबंध सबसे ज्यादा खराब चल रहे हैं. ऐसे माहौल में करतारपुर कॉरिडोर खोलने के लिए दोनों देशों के उच्चाधिकारी गुरुवार दोपहर साढ़े तीन बजे बातचीत करेंगे.

पाकिस्तान के उप उच्चायुक्त अमृतसर पहुंचे

करतारपुर कॉरिडोर पर चर्चा करने के लिए भारत में पाकिस्तान के उप उच्चायुक्त सैयद हैदर शाह अमृतसर पहुंच गए हैं. यहां पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने कहा कि करतारपुर कॉरिडोर खोलने के लिए पाकिस्तान ने पहल की है. करतारपुर जाने के लिए वीजा के सवाल पर उन्होंने कहा कि इस बारे में कल होने वाली बैठक में चर्चा की जाएगी. पाकिस्तान का प्रतिनिधिमंडल गुरुवार को आएगा.

अटारी में होगी दोनों देशों के अधिकारियों में चर्चा

तय कार्यक्रम के मुताबिक दोनों देशों के अधिकारी अमृतसर के पास अटारी में मिलेंगे. पाकिस्तान में मौजूद ऐतिहासिक करतारपुर साहिब गुरुद्वारे में भारतीय श्रद्धालुओं के दर्शन करने के लिए करतारपुर गलियारे के काम को अंतिम रूप देने के लिए पहली बार दोनों देशों के अधिकारी बातचीत करेंगे. इस दौरान दोनों देशों में कई मसौदों पर चर्चा होगी. माना जा रहा कि इस कॉरिडोर के जरिए दर्शनार्थियों को बिना वीजा के यात्रा करने पर अहम समझौता किया जाएगा. दोनों देशों के गृह व विदेश मंत्रालय के अधिकारी अमृतसर से 30 किलोमीटर दूर अटारी में कॉरिडोर की रूपरेखा तय करेंगे.

गुरु नानक देव जी की 550वीं जयंती पर जा सकेंगे श्रद्धालु

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने करतारपुर कॉरिडोर के शीघ्र निर्माण के लिए गृह मंत्रालय के फैसले का स्वागत किया था. उन्होंने कहा था कि वे चाहते हैं कि श्रद्धालुओं को बिना पासपोर्ट और वीजा के दर्शन करने दिया जाए. करतारपुर कॉरिडोर के खुल जाने से श्रद्धालु श्री गुरु नानक देव जी की 550वीं जयंती के समय पाकिस्तान में ऐतिहासिक गुरुद्वारे जा सकेंगे.

@vicharodaya

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here