उपचुनाव के नतीजे में भी लोगों को गुस्सा साफ नजर आया, सरकार कर रही राहत देने की कोशिश

पेट्रोल और डीजल की कीमतों में लगातार हो रही वृद्धि से लोगों में हाहाकार मची हुई है और मोदी सरकार को लोग कोस रहे हैं मोदी सरकार के खिलाफ लोगों का गुस्सा हाल ही में हुए लोकसभा और विधानसभा के उपचुनाव के नतीजे में साफ दिखाई दिया यहां भाजपा को और उसके सहयोगी दलों को हार का सामना करना पड़ा मौजूदा समय में पेट्रोल डीजल की कीमतें रिकॉर्ड स्तर पर हैं सूत्रों के मुताबिक लोगों को राहत देने के लिए सरकार पेट्रोल डीजल के मूल्य में 4 से ₹5 प्रति लीटर की कटौती करने पर विचार कर रही है

समाधान ढूंढ रही सरकार

पिछले सप्ताह पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने संकेत दिया था कि मूल्य वृद्धि का दीर्घकालीन समाधान ढूंढने पर सरकार विचार कर रही है सरकार केंद्र सरकार की योजना सफल रही तो देश के अधिकांश भागों में तेल की कीमतों में 4 से ₹5 की कटौती हो सकती है इसके तहत ईंधन पर एक्साइज ड्यूटी पर कटौती की जाएगी और राज्य सरकारों को पेट्रोल-डीजल पर वेट घटाने के लिए राजी किया जाएगा तेल कंपनियों को कहा जाएगा कि इसकी बिक्री के कमीशन में कटौती की जाए।

दूसरे दिन भी राई बराबर राहत: पेट्रोल 7 और डीजल 5 पैसे लीटर सस्ता हुआ

https://m.youtube.com/channel/UCtR9ml1AXlXIG8WiuxhzTOQ

पेट्रोल डीजल की आसमान छूती कीमतों से नाराज़ देश की जनता के जख्मों पर तेल कंपनियों ने लगातार दूसरे दिन भी नमक छिड़कते हुए पेट्रोल 7 पैसे और डीजल 5 पैसे सस्ता किया है बुधवार को पेट्रोल डीजल की कीमतों में सिर्फ एक-एक पैसे की कमी आई थी इस पर विपक्ष ने सरकार को तीखी आलोचना की थी गुरुवार को दिल्ली में पेट्रोल ₹78.35 और डीजल 69.5 इस रुपए प्रति लीटर रहा इससे पहले 16 दिन में पेट्रोल की कीमत में करीब ₹4 और डीजल की कीमत में 3.62 रूपय का उछाल आया था|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here