भारतीय कप्तान विराट कोहली को लगता है कि विश्व कप तैयारियों के अंतर्गत तर्कसंगत यही होता कि उनकी टीम दो टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैचों के बजाय दो और वनडे मुकाबले खेलती. भारतीय टीम ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दो टी-20 और पांच वनडे खेलेगी जो पांच जून को साउथम्प्टन में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ विश्व कप के शुरूआती मुकाबले से पहले उनकी अंतिम अंतरराष्ट्रीय सीरीज होगी.

Advertisement

कोहली ने शुरुआती टी-20 की पूर्व संध्या पर कहा, ‘शायद, दो और वनडे सिर्फ हमारे लिए ही नहीं बल्कि दोनों टीमों के लिए फायदेमंद होते. यह ज्यादा आदर्श और तार्किक स्थिति होती.’ हालांकि ये टी20 मैच हैं, लेकिन कोहली इन छोटे प्रारूप के मैचों को विश्व कप की तैयारियों के रूप में लेना चाहेंगे. उन्होंने कहा, ‘लेकिन हमारे पास जो भी सर्वश्रेष्ठ चीज आगे है, हमें उसका उपयोग करना होगा. जैसा कि मैंने पहले कहा है कि हम बतौर टीम मानसिक रूप से सही स्थिति में आना चाहेंगे.’

पाकिस्तान से क्रिकेट पर बोले विराट कोहली, हमारा रुख सख्त, हम देश के साथ खड़े हैं

उन्होंने कहा, ‘अभी हम बतौर टीम काफी संतुलित हैं और मुझे किसी भी चीज या विभाग में कोई चिंता नहीं है. हर कुछ लगभग सुलझा हुआ है.’ हालांकि कप्तान ने यह खुलासा नहीं किया कि लेग स्पिनर मयंक मार्कंडेय को युजवेंद्र चहल पर तरजीह दी जाएगी या नहीं. चहल और क्रृणाल पंड्या टी-20 प्रारूप के दो विशेषज्ञ स्पिनर हैं.

कोहली ने कहा, ‘देखिये, उसे (मार्कंडेय) मौका दिया गया है, क्योंकि उसने अच्छा प्रदर्शन किया है. यह पूरी तरह से युवा खिलाड़ी को मौका देना है जिसने पिछले दो सत्रों में अच्छा प्रदर्शन किया है. उसने आईपीएल और टी-20 क्रिकेट में अच्छी गेंदबाजी की.’ भारतीय कप्तान ने ऑस्ट्रेलिया के ऑलराउंडर मार्कस स्टोइनिस को आगामी सीरीज में सबसे खतरनाक खिलाड़ी बताया.

@vicharodaya

Advertisement
Advertisement

Leave a Reply